Tuesday , June 25 2024

कनाडा में 13 जगहों पर चाकू से हमला, 10 की मौत-15 घायल: सड़कों पर घूम रहे 2 संदिग्ध, पुलिस ने लोगों से घरों में ही रहने को बोला

कनाडा में 13 जगहों से सड़क पर चलते लोगों पर मास स्टैबिंग यानी कि चाकू से हमला करने का मामला प्रकाश में आया है। घटना में 10 लोगों की मौत जबकि 15 लोग घायल बताए जा रहे हैं। प्रशासन ने 2 संदिग्धों की तस्वीर दिखाकर अलर्ट जारी कर दिया है। ये दोनों काले रंग की गाड़ी में बैठकर घटना को अंजाम दे रहे हैं। शहर में ‘सिविल इमरजेंसी’ भी लागू कर दी गई है।

रॉयल कनाडियन माउंटेड पुलिस की असिस्‍टेंट कमिश्‍नर रोंडा ब्‍लैकमोर ने इस घटना को हाल के वर्षों की बड़ी घटनाओं में से एक बताया है। ब्लैकमोर के मुताबिक उन लोगों के पास घटना की सूचना सबसे पहले (स्थानीय समयानुसार) सुबह 5:40 पर आई थी। इसके बाद पता चला कि इन्होंने सस्‍काचुवान में भी कम से कम 13 लोगों को अपना निशाना बनाया।

संदिग्धों की लोकेशन का नहीं चल पाया है पता

पुलिस द्वारा जारी की गई जानकारी के मुताबिक संदिग्धों के नाम डेमियन सैंडरसन और माइल्स सैंडरसन हैं। ये दोनों निसान रोग गाड़ी में बैठ इधर-उधर घूमकर घटना को अंजाम दे रहे हैं। इनका कुछ पता नहीं है कि आखिर वो अभी कहाँ है।

असिस्टेंट कमिश्नर बोलीं कि घटना देख ऐसा लगता है कि कइयों को संदिग्ध अपना निशाना बना चुके हैं और कइयों को और बनाएँगे। इन्हें पकड़े बिना इनके मकसद को बता पाना सच में मुश्किल है। अल्बर्टा और मनिटोबा के प्रांत की पुलिसें अपने काम पर लगी हैं। पर उनकी लोकेशन का अभी पता नहीं चल सका है। इसके अलावा डेमियन और माइल्स के रिश्तेदारों का पता लगाना भी अभी संभव नहीं हो पा रहा है और इनका आपस में क्या संबंध है ये भी नहीं पता चल सका है।

बता दें कि सड़क चलते लोगों पर इस तरह हमला कनाडा में पहली बार नहीं है। 2 साल पहले यहाँ एक मास शूटिंग की घटना हुई थी। तब नोवा स्कोटिया के एक व्यक्ति ने 14 घंटों में घूम घूमकर लोगों को मारा था।

कनाडा PM ने जताया दुख

इस बार भी दो दर्जन लोग निशाना बनाए जा चुके हैं। कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने इसे भयावह और दिल तोड़ने वाली घटना कहा है। उन्होंने मृतकों के परिजनों के साथ संवेदना व्यक्त की और आ बताया कि वह हालातों पर करीबी से नजर बनाए हुए हैं। पुलिस अपने प्रयास कर रही हैं।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch