Saturday , June 15 2024

भंडारण निगम में फिर सामने आया करोड़ों का खाद्यान्न घोटाला

लखनऊ। उत्तर प्रदेश राज्य भंडारण निगम द्वारा वर्ष 2022 की शुरुआत में लगभग 5 करोड़ों के खाद्यान्न घोटाला करके जिला सीतापुर के नेरी कला केंद्र पर एक नया कीर्तिमान बनाया था। किसी अधिकारी या कर्मचारी पर कोई कार्यवाही ना होते देखकर फर्जी शैक्षिक प्रमाण पत्र पर कार्यरत क्षेत्रीय प्रबंधक श्री सुभाष चंद पांडे द्वारा सीतापुर के पिहानी में 1करोड़ 50 लाख का घोटाला करके एक नए कीर्तिमान की तरफ अपने कदमों को बढ़ाया है।
राज्य भंडारण निगम के विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार लखनऊ मंडल के अधीनस्थ अन्य गोदामों में भारी मात्रा में किए गए गबन और भ्रष्टाचार का मूल्यांकन किया जाए तो यह धनराशि विगत कई वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ देगी और प्रबंध निदेशक श्रीकांत गोस्वामी के कार्यकाल में खाद्यान्न घोटाला एक नया कीर्तिमान बनाने की ओर अग्रसर है।
अपर मुख्य सचिव सहकारिता श्री बी एल मीणा के संज्ञान में समस्त जानकारी होने के बाद उनके द्वारा कोई कार्यवाही न किये जाना इस बात का स्पष्ट संदेश है कि राज्य भंडारण निगम के प्रबंध निदेशक श्रीकांत गोस्वामी की पहुंच बहुत ऊपर तक है और घोटाले पर घोटाले करने के बाद भी भंडारण निगम के किसी भी अधिकारी/कर्मचारी पर शासन कार्यवाही करने से कतरा रहा है ।
भारतीय खाद्य निगम से मिली जानकारी के अनुसार सीतापुर के पिहानी डिपो में लगभग 1100 बोरे खाद्यान्न की हेराफेरी सामने आई है जिसका संभावित मूल्य लगभग 1.50 करोड़ रुपये की धनराशि का होगा। पूर्व में दिसंबर 2021 में सीतापुर के नेरी कला केंद्र पर 5 करोड़ की धनराशि का खाद्यान्न घोटाला हुआ था लेकिन राज्य भंडारण निगम के किसी भी अधिकारी कर्मचारी पर कार्यवाही नही हुई बल्कि इस घोटाले की धनराशि को उत्तर प्रदेश सरकार के सरकारी कोष से भरपाई की गई है। राज्य भंडारण निगम का सूरतें हाल यही रहा तो अन्य जिलों से भी करोड़ो के खाद्यान्न घोटाला देखने को मिलेगा।
साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch