Saturday , June 15 2024

रोहित शर्मा ने नहीं की थी इसकी उम्मीद, मैच के बाद कहा ‘वास्तव में मैं भी काफी हैरान था’

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टी20 में रोहित शर्मा ने कप्तानी पारी खेलते हुए भारत को 6 विकेट से जीत दिलाई। नागपुर में रोहित के बल्ले से 4 चौकों और 4 छक्के निकले जिसकी मदद से उन्होंने 20 गेंदों पर 46 रनों की नाबाद पारी खेली और उन्हें मैन ऑफ द मैच के अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। रोहित ने मैच के बाद कहा कि वह भी वास्तव में हैरान थे क्योंकि उन्होंने इस तरह की हिटिंग की उम्मीद नहीं की थी। रोहित ने हेजलुड के पहले ही ओवर में दो छक्के लगाकर धमाकेदार अंदाज में पारी का आगाज किया था। बता दें, बारिश से बाधित यह मुकाबला 8-8 ओवर का खेला गया था। ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत के सामने 91 रनों का लक्ष्य रखा था जिसे टीम इंडिया ने 4 गेंदें शेष रहते हासिल कर लिया।

मैच के बाद कप्तान रोहित शर्मा ने अपनी तूफानी बल्लेबाजी के बारे में बात करते हुए कहा ‘वास्तव में मैं भी काफी हैरान था, इस तरह हिट करने की उम्मीद नहीं थी, खुशी है कि मैं ऐसा कर पाया। पिछले आठ नौ महीनों से मैं ऐसा ही खेल रहा हूं। कुछ अलग नहीं कर रहा था।’

रोहित शर्मा ने इसके अलावा अक्षर पटेल की गेंदबाजी की भी जमकर तारीफ की। रोहित ने कहा कि बाएं हाथ का यह गेंदबाज प्वारप्ले में गेंदबाजी कर उन्हें अन्य गेंदबाजों का इस्तेमाल करने की स्वतंत्रता देता है। अक्षर ने दो ओवर के कोटे में 13 रन खर्च कर दो बड़े विकेट चटकाए थे।

भारतीय कप्तान ने कहा ‘अक्षर मैच के किसी भी चरण में गेंदबाजी कर सकता है, इससे वह मुझे अन्य गेंदबाजों को अलग-अलग परिस्थितियों में भी इस्तेमाल करने का मौका देता है। अगर वह पावरप्ले में गेंदबाजी करता है तो हम बीच के ओवरों में तेज गेंदबाजों का इस्तेमाल कर सकते हैं। मैं अक्षर की बल्लेबाजी भी देखना चाहता हूं।’

अक्षर के अलावा इस मैच में हर भारतीय गेंदबाज ने 10 या उससे अधिक की इकॉन्मी से रन लुटाए, वहीं हर्षल पटेल ने तो दो ओवर में 32 रन खर्च किए। हालांकि मैच के बाद रोहित हर्षल के सपोर्ट में उतरे और कहा कि इंजरी के बाद वापसी करना मुश्किल होता है।

रोहित ने कहा ‘ गेंदबाजों के पास गेंदबाजी करने के लिए कुछ था और हमने अच्छी गेंदबाजी की। बाद में ओस आने लगी, इसलिए हमने हर्षल की ओर से कुछ फुल टॉस देखी। कुछ महीनों के बाद चोट के बाद वापसी करना मुश्किल हो सकता है। मैं इस बारे में ज्यादा बात नहीं करूंगा कि उन्होंने कैसी गेंदबाजी की।’

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch