Wednesday , April 24 2024

डीए 4 फीसदी बढ़ गया, लेकिन आपकी सैलरी कितनी बढ़ेगी? ऐसे समझें हिसाब-किताब

नई दिल्ली। केंद्रीय कर्मचारियों (Central Employees) के डीए (DA Hike) में सरकार ने चार फीसदी की बढ़ोतरी का ऐलान कर दिया है. इस बढ़ोतरी के बाद केंद्रीय कर्मचारी का डीए 34 फीसदी से बढ़कर 38 फीसदी हो गया है. नई बढ़ोतरी को एक जुलाई से लागू माना जाएगा. सरकार ने इससे पहले डीए को मार्च 2022 में बढ़ाया था, तब तीन फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी. त्योहारी सीजन में सरकार ने डीए बढ़ाकर कर्मचारियों को तोहफा दिया है. हालांकि, इस बढ़ोतरी के बाद सरकारी खजाने पर बोझ बढ़ेगा. लेकिन डीए में चार फीसदी की हुई बढ़ोतरी के बाद केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी में कितना इजाफा होगा?

कैलकुलेशन के हिसाब से देखें, तो इस बढ़ोतरी के बाद अगर किसी कर्मचारी की बेसिक सैलरी 20,000 रुपये है, तो 38 फीसदी की दर से उसका डीए अब 7,600 रुपये हो जाएगा. इस बढ़ोतरी से पहले 34 फीसदी की दर से उसे 6,800 रुपये डीए के रूप में मिलता था. इस तरह उसकी हर महीने की सैलरी में 800 रुपये का इजाफा होगा और सालाना 9,600 रुपये उसकी सैलरी में बढ़ोतरी होगी. इसी तरह केंद्र सरकार से पेंशन प्राप्त करने वाले सरकारी पेंशनभोगियों को महंगाई राहत (DR) दर की गणना की जाएगी.

लाखों कर्मचारियों को फायदा

सरकार ने मौजूदा महंगाई (Inflation) के आंकड़े को देखते हुए DA में 4 फीसदी की बढ़ोतरी का फैसला लिया है, इसका फायदा 50 लाख कर्मचारियों (Employees) और 65 लाख पेंशनर्स (Pensioners) को मिलेगा. सरकारी कर्मचारियों को मिलने वाला डीए उनकी वित्तीय सहायता सैलरी स्ट्रक्चर (Salary Structure) का हिस्सा होता है.

सरकार के खजाने पर बढ़ेगा बोझ

सरकार के अनुसार, डीए में चार फीसदी के इजाफे के बाद सरकारी खजाने पर 12,852.56 करोड़ रुपये का सालाना बोझ बढ़ जाएगा. सरकार महंगाई के अनुसार डीए को बढ़ाती है, ताकी कर्मचारियों के जीवन स्तर किसी भी तरह से प्रभावित नहीं हो.

देश में महंगाई दर

देश में खुदरा महंगाई दर लगतार आठवें महीने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की तय लक्ष्य सीमा से ऊपर बनी हुई है. बीते दिनों जारी किए गए खुदरा महंगाई के आंकड़ों को देखें तो अगस्त में यह एक बार फिर से 7 फीसदी पर पहुंच गई है. इससे पहले जुलाई महीने में खुदरा महंगाई में कमी दर्ज की गई थी और यह 6.71 फीसदी पर आ गई थी.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch