Wednesday , February 28 2024

स्वामी प्रसाद मौर्य क्यों नहीं मान रहे? अखिलेश और शिवपाल के फैसले के बाद इस ट्वीट से उठे सवाल

लखनऊ। सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य अब पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के फैसले को भी नहीं मान रहे हैं। सपा की बैठक में हुए धर्म, जाति के मुद्दे पर दूरी के फैसले को अनदेखा कर स्वामी प्रसाद मौर्य ने मंगलवार को संस्कृत भाषा में ट्वीट किया। उन्होंने ट्वीट में राम चरित मानस न लिखते हुए रघुनाथगाथा लिखा है। ऐसे सवाल उठने लगा है कि स्वामी प्रसाद पार्टी के फैसले को नहीं मानेंगे।

आपको बता दें कि रविवार को शिवपाल ने सपा विधायकों की बैठक ली। शिवपाल ने कहा कि समाजवादी पार्टी विधानसभा में मानस का मुद्दा अपनी ओर से नहीं उठाएगी। सभी विधायकों को हिदायत दी गई है कि वह धार्मिक मुद्दे उठाने से परहेज करें और जनता से जुड़े मुद्दों पर सरकार को घेरें।

शिवपाल ने विधायकों को संबोधित करते हुए कहा कि रामचरित मानस पर कोई भी नेता बयान नहीं देगा। बैठक में सपा एमएलसी स्वामी प्रसाद मौर्य नहीं आए। इससे पहले सदन में सपा के सचेतक मनोज पांडेय ने कार्यमंत्रणा समिति में पार्टी की ओर से उठाए गए मुद्दों को रखा। बैठक में तय हुआ कि कोई विधायक या पार्टी नेता किसी भी जाति, धर्म और समाज के खिलाफ कोई भी बयान नहीं देगा।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch