Sunday , June 16 2024

सावधान : लौट रहा कोरोना, H3N2 भी हुआ जानलेवा… डॉक्टर्स से जानें डबल खतरे में लोग क्या बरतें सावधानियां

(Image credit: Pixabay)नई दिल्ली। भारत में कोरोना के केस पिछले कुछ समय से कम हुए थे कि फिर से कोविड-19 के मामलों की संख्या में इजाफा देखने मिल रहा है. कोविड-19 के साथ भारत में एच3एन2 (H3N2) है जो इन्फ्लुएंजा ए वायरस के मामले भी लगातार सामने आ रहे हैं. यानी कि भारत में कोरोना और H3N2 दोनों के मामलों में उछाल आने से लोगों की चिंताएं बढ़ गई हैं.

एच3एन2 वायरस के बारे में जानें

H3N2 इन्फ्लुएंजा ए वायरस का सब-टाइप है. H3N2 इन्फ्लुएंजा वायरस संक्रमित व्यक्ति से से खांसी या छींक के माध्यम से किसी स्वस्थ व्यक्ति तक पहुंचता है. H3N2 वायरस के संक्रमण के सामान्य लक्षण फ्लू की तरह हैं. इस वायरस की चपेट में आने पर बुखार या तेज ठंड लगना, खांसी, गले में खराश, नाक बहना या कुछ मामलों में नाक बंद होना, सिरदर्द और थकान है. कुछ मामलों में उल्टी या दस्त भी हो सकते हैं. सांस लेने में कठिनाई भी इस वायरस के लक्षण हो सकते हैं जो तीन सप्ताह तक बने रहते हैं.

कोविड-19 से कितना अलग है H3N2?

कोविड-19 जूनोटिक बीमारी है. यानी यह जानवरों से इंसान और इंसान से जानवरों में फैल सकता है. इस वायरस का नाम SARS-CoV-2 है और इसके कारण फैलने वाली बीमारी को WHO ने COVID-19 नाम रखा था. दिल्ली एम्स के पूर्व डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया के मुताबिक, ‘काफी साल पहले एक H1N1 के कारण एक महामारी आई थी. उस वायरस का सर्कुलेटिंग स्ट्रेन अब H3N2 है और यह एक सामान्य इन्फ्लूएंजा स्ट्रेन है. इसके अधिक मामले देखे जा रहे हैं क्योंकि यह म्यूटेट हो रहा है. इस वायरस के खिलाफ लोगों में इम्यूनिटी कुछ कम देखी जा रही है इसलिए अतिसंवेदनशील लोगों को यह आसानी से संक्रमित कर रहा है.’

गुड़गांव के सीके बिड़ला हॉस्पिटल के क्रिटिकल केयर और पल्मोनोलॉजी के हेड डॉ. कुलदीप कुमार ग्रोवर (Dr. Kuldeep Kumar) के मुताबिक, कोविड-19 और H3N2 वायरस दोनों एक-दूसरे से पूरी तरह अलग हैं. कोविड-19 और H3N2 वायरस की प्रकृति और आवृत्ति अलग है.

H3N2 से बचे रहने के लिए सावधानी

मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, साकेत के इंटरनल मेडिसन डायरेक्टर, डॉ. रोमेल टिक्कू (Dr. Rommel Tickoo) ने कहा, ‘किसी भी अन्य वायरस की ही तरह H3N2 वायरस से बचने के लिए उचित सावधानी बनाए रखें, मास्क लगाएं, हाथ साफ रखें और संक्रमण से बचने के लिए चेहरे-आंखों को बार-बार छूने से बचें. लोगों ने मास्क लगाना और उसे गंभीरता से लेना बंद कर दिया है लेकिन फेस मास्क फ्लू के प्रसार को रोक सकता है और हानिकारक कणों को भी शरीर में जाने से रोकता है इसलिए मास्क लगाएं.’

डॉ. रोमेल आगे कहते हैं, “H3N2 इन्फ्लुएंजा वायरस एक संक्रमित व्यक्ति से से खांसी या छींक के माध्यम से किसी स्वस्थ व्यक्ति तक पहुंच रहा है. संक्रमण से बचे रहने के लिए सुरक्षा बरतनी जरूरी है. इसके लिए भीड़-भाड़ वाली जगहों से बचें, सार्वजनिक रूप से बाहर हों तो मास्क लगाएं, हाथ को साबुन से बार-बार धोएं. उन लोगों के साथ संपर्क से बचें जिन्हें फ्लू है या जिनमें फ्लू के लक्षण दिखाई देते हैं.

कोविड-19 से कितना खतरा?

अपोलो हॉस्पिटल की एमडी डॉ. संगीता रेड्डी (Dr. Sangita Reddy) ने कुछ समय पहले कहा था, ‘भारत में कोविड वैक्सीनेशन अभियान और इफेक्टिव वैक्सीन को देखते हुए बढ़ते हुए मामलों से घबराने की जरूरत नहीं है.’

वहीं एंटी टास्क फोर्स के वरिष्ठ सदस्य और कोविड टीकाकरण अभियान के प्रमुख डॉ. एनके अरोड़ा ने कहा था, चीन में बढ़ते हुए मामलों से भारत को घबराने की जरूरत नहीं है लेकिन सावधानी बरतनी काफी जरूरी है. भारत में बड़े स्तर पर वैक्सीनेशन हो चुका है जिसमें बुजुर्ग, युवा और कम उम्र के बच्चे भी शामिल हैं.

एक्सपर्ट्स का कहना है भीड़-भाड़ अधिक होने से संक्रमण का खतरा अधिक हो सकता है. कोविड-19 खांसने, छींकने, बात करने से ही एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है इसलिए उचित दूरी बनाए रखें. अगर किसी को कोई भी लक्षण नजर आए तो तुरंत सावधान हो जाएं. खांसी, जुकाम, बुखार, छाती में दर्द, सुनने में दिक्कत और स्मेल जैसे लक्षण कोविड-19 की पहचान हैं. कोविड-19 से बचे रहने के लिए भीड़-भाड़ वाली जगह पर मास्क लगाएं. समय-समय पर हाथ धोते रहें.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch