Wednesday , February 28 2024

जैसे आए थे कन्हैया लाल और कमलेश तिवारी का गला रेतने वाले, वैसे ही इंदौर में हिंदूवादी वकील को मारने पहुँच गए जुनैद और साथी: भागकर बचाई जान

इंदौर वकील PFI हमलामध्य प्रदेश के इंदौर में लाउडस्पीकर पर अजान के खिलाफ अभियान चलाने वाले वकील पर ऑफिस में घुस कर हमला किया गया है। पीड़ित वकील का नाम मनीष गड़कर है। एडवोकेट मनीष ने वकील के ड्रेस में कोर्ट में PFI की जासूसी कर रही लड़की को भी गिरफ्तार करवाने में बड़ी भूमिका निभाई थी। हमले का आरोप जुनैद, उसके मामा व एक अन्य अज्ञात व्यक्ति पर लगा है। जुनैद को हिरासत में ले कर पुलिस पूछताछ कर रही है। घटना सोमवार (20 मार्च, 2023) की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना इंदौर के सदर बाजार थाना क्षेत्र के तिलक पथ इलाके की है। अधिवक्ता मनीष के मुताबिक सोमवार की दोपहर में जुनैद ने उन्हें कॉल कर के जेल में बंद अपने एक भाई की जमानत के बारे में सलाह लेनी चाही। तब मनीष ने जुनैद को हाईकोर्ट बुलाया। जुनैद ने हाईकोर्ट न आ कर मनीष से उनके ऑफिस में मिलने की इच्छा जताई। वकील मनीष गड़कर शाम को अपने ऑफिस पहुँचे और रात 8:30 पर जुनैद को कॉल कर के बुलाया। जुनैद पहले अकेले आया और वकील से अपने केस के बारे में बातचीत करने लगा।

मनीष गड़कर के मुताबिक, कुछ ही देर में जुनैद के 2 अन्य साथी भी उनके ऑफिस पहुँच गए। इन 2 लोगों में एक जुनैद का मामा था, जबकि दूसरा अज्ञात। वकील का आरोप है कि थोड़ी ही देर की बातचीत में जुनैद ने मनीष को धमकाते हुए कहा, “आजकल फेसबुक पर मुस्लिमों के खिलाफ बहुत पोस्ट डाल रहे हो। तूने अजान के खिलाफ भी मुहिम चलाई थी। समझ जा नहीं तो तुझे खत्म कर देंगे। हिन्दुस्तान में इतनी घटनाएँ हो रहीं सिर तन से जुदा वाली, याद नहीं क्या तुझे, समझ में नहीं आ रही?”

शिकायत में अधिवक्ता मनीष ने आगे बताया है कि वो कुछ समझ पाते इस से पहले जुनैद, उसके मामा और एक अन्य अज्ञात व्यक्ति ने उन्हें पीटना शुरू कर दिया। आरोप है कि तीनों आरोपितों द्वारा मनीष को जमीन पर पटक दिया गया और खिड़की से काँच का टुकड़ा तोड़ कर उन्हें मार डालने का प्रयास हुआ। मनीष के मुताबिक, वो जैसे तैसे तीनों के चंगुल से छूट कर भाग पाए। यहाँ से उन्होंने पुलिस को कॉल किया। सदर बाजार पुलिस स्टेशन की TI मंजू यादव के मुताबिक, जुनैद को हिरासत में ले लिया गया है और पूछताछ की जा रही है।

भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने इस घटना पर नाराजगी जताते हुए ऐसी हरकत कतई बर्दाश्त से बाहर बताते हुए प्रशासन से आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई की माँग की है।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch