Thursday , February 22 2024

गाड़ी बदली, कपड़े बदले, हुलिया बदलने की आशंका… पंजाब पुलिस ने अमृतपाल सिंह की कई तस्वीरें जारी की, एक में दाढ़ी-पगड़ी साफ: भगोड़े खालिस्तानी पर NSA भी

अमृतपाल सिंहभगोड़े खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल सिंह की कई तस्वीरें पंजाब पुलिस ने जारी की है। इन तस्वीरों में वह अलग-अलग लुक में दिख रहा है। एक तस्वीर में वह बिना दाढ़ी और पगड़ी के भी दिख रहा है। पंजाब पुलिस ने तस्वीर जारी करते हुए उसे पकड़ने में लोगों से मदद की अपील की है। पुलिस को शक है कि वह हुलिया बदलकर भागा है।

पंजाब पुलिस के आईजी सुखचैन सिंह गिल ने कहा, “अमृतपाल सिंह की अलग-अलग हुलिए में कई तस्वीरें हैं। हम इन तस्वीरों को जारी कर रहे हैं। मीडिया से आग्रह है कि वह इन तस्वीरों को प्रदर्शित करें ताकि लोग अमृतपाल को गिरफ्तार करने में पुलिस की मदद कर सकें।” उन्होंने बताया कि उसे पकड़ने के लिए हरसंभव प्रयास जारी है। पंजाब पुलिस को अन्य राज्यों और केंद्रीय एजेंसियों से भी पूरी मदद मिल रही है।

उन्होंने बताया कि अमृतपाल सिंह पर नेशनल सिक्योरिटी एक्ट (एनएसए) लगाया गया है। उसके खिलाफ 18 मार्च को वारंट जारी किया गया था। अब तक 154 लोगों को हिरासत में लिया गया है। हथियारों की बरामदगी भी हुई है। आईजी सिंह ने बताया कि इस मामले में चार और गिरफ्तारी हुई है। इनकी पहचान मनप्रीत, गुरदीप, हरप्रीत और गुरपेज के तौर पर बताई गई है। इन पर अमृतपाल सिंह को भगाने में मदद का आरोप है।

पंजाब पुलिस के आईजी ने बताया कि शुरुआती जाँच से पता चला है कि इनलोगों की मदद से अमृतपाल नांगल अम्बियां के गुरुद्वारा साहिब में गया। वहाँ उसने कपड़े बदले और दो मोटरसाइकिल से फरार हो गए। उन्होंने कहा कि इस मामले में पुलिस वैधानिक तरीके से आगे बढ़ रही। कई संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। लेकिन मुख्य आरोपित अमृतपाल सिंह अभी गिरफ्त से दूर है।

गौरतलब है कि इससे पहले हाई कोर्ट ने ‘वारिस पंजाब दे’ के भगोड़े प्रमुख अमृतपाल सिंह को अभी तक पकड़ नहीं पाने को लेकर राज्य सरकार को फटकार लगाई थी। पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने कहा, “उसे पकड़ने के लिए बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान शुरू किया गया। इसके बावजूद वह भागने में कामयाब रहा। पंजाब सरकार का खुफिया तंत्र पूरी तरह से फेल रहा।” साथ ही पूछा कि राज्य के 80 हजार पुलिस वाले क्या कर रहे थे?

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch