Thursday , February 22 2024

निराशा की छवि से बाहर निकला यूपी, पीएम मोदी ने वाराणसी में सीएम योगी की तारीफों के पुल बांधे

वाराणसी/लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व की उत्तर प्रदेश सरकार की  खूब सराहना की। पीएम मोदी ने कहा कि निराशा की पुरानी छवि से बाहर निकलकर प्रदेश आशा और आकांक्षा की नई दिशा में बढ़ चला है। मोदी ने शुक्रवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में 1,780 करोड़ रुपये से अधिक की लागत वाली 28 विकास परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन करने के बाद अपने संबोधन में कहा कि यूपी आज विकास के हर क्षेत्र में नए आयाम स्थापित कर रहा है। कल 25 मार्च को योगी जी की दूसरी पारी का एक वर्ष पूरा हो रहा है। योगी जी ने लगातार सबसे ज्यादा समय तक यूपी का मुख्‍यमंत्री बनने का रिकॉर्ड बनाया है।

भोजपुरी में अपने भाषण की शुरुआत करते हुए मोदी ने कहा कि आप सब लोगन के हमार प्रणाम बा (आप सभी लोगों को मैं प्रणाम करता हूं)। उन्होंने कहा कि एक समय था जब गंगा जी में इसके (पुरातन और आधुनिकता के संगम) बारे में सोचना भी असंभव था लेकिन बनारस के लोगों ने यह भी करके दिखाया और आपके इन्‍हीं प्रयासों से एक वर्ष के भीतर सात करोड़ से अधिक पर्यटक काशी आए और आप मुझे बताइए ये जो सात करोड़ यहां आ रहे वह बनारस में ही तो ठहर रहे, कभी पूड़ी कचौड़ी खा रहे, कभी जलेबी, लौंग लत्‍ता का आनंद ले रहे, कभी लस्‍सी, कभी ठंडई का मजा लिया जा रहा।

परियोजनाओं की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इन सभी परियोजनाओं के लिए बनारस और पूर्वांचल के लोगों को बहुत बहुत बधाई। मोदी ने कहा कि काशी के विकास की चर्चा पूरे देश और दुनिया में हो रही है, जो भी काशी आ रहा है, वह यहां से नई ऊर्जा लेकर जा रहा है। नौ वर्ष पहले लोगों को आशंका थी, बनारस में बदलाव नहीं हो पाएगा, काशी में कुछ नहीं हो पाएगा लेकिन काशी के लोगों ने अपनी मेहनत से हर आशंका को गलत साबित कर दिया।

उन्होंने वाराणसी कैंट स्टेशन से गोदौलिया तक यात्री रोपवे परियोजना की आधारशिला रखी। इस परियोजना पर करीब 645 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। 3.75 किलोमीटर लंबी रोपवे प्रणाली में पांच स्टेशन होंगे। इससे पर्यटकों, तीर्थयात्रियों और वाराणसी के निवासियों को आवाजाही में आसानी होगी।

प्रधानमंत्री ने नमामि गंगे योजना के तहत भगवानपुर में 55 एमएलडी (मिलियन लीटर प्रतिदिन) क्षमता वाले जल शोधन संयंत्र की आधारशिला भी रखी जिसका निर्माण 300 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से किया जाएगा।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch