Tuesday , September 26 2023

तुम ही बताओ यह मोहर्रम हुई कि ईद; केजरीवाल पर बरसे सुधांशु त्रिवेदी और मुस्कुराते रहे अमित शाह

तुम ही बताओ यह मोहर्रम हुई कि ईद; केजरीवाल पर बरसे सुधांशु त्रिवेदी और मुस्कुराते रहे अमित शाहनई दिल्ली। लोकसभा से पारित होने के बाद दिल्ली सेवा बिल अब राज्यसभा में भी पेश कर दिया गया है। सोमवार को उच्च सदन में इस पर दिलचस्प बहस देखने को मिली। कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी ने इस बिल को चुनी हुई सरकार के खिलाफ बताया और होम मिनिस्टर अमित शाह को सुपरबॉस कहते हुए तंज कसा। वहीं उनके बाद बारी सुधांशु त्रिवेदी की थी, जिन्होंने शायराना अंदाज में जमकर तीर छोड़े। उन्होंने कांग्रेस और आम आदमी पार्टी की दोस्ती पर तंज कसते हुए कहा कि इन्हें लगता था कि हम बिल पर समर्थन पाकर बढ़त बना लेंगे, लेकिन कांग्रेस तो अविश्वास प्रस्ताव लाकर आगे निकल गई।

त्रिवेदी ने कहा कि ब्यूरोक्रेसी पर नियंत्रण की बात की जा रही है, लेकिन दिल्ली में आम आदमी पार्टी के लोग सरकारी पदों पर बैठे हैं और सुविधाओं का लाभ ले रहे हैं। सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि दिल्ली का कोई स्टेट काडर नहीं है। यहां केंद्र शासित प्रदेश का काडर लागू होता है। यदि इन अफसरों का ट्रांसफर किसी और जगह पर करना हो और सीएम की मंजूरी न हो तो फिर दिक्कत होगी। ऐसे में केंद्र सरकार के अधिकार तय होना जरूरी है। इस दौरान सुधांशु त्रिवेदी ने अरविंद केजरीवाल के बंगले का भी जिक्र किया।

केजरीवाल के बंगले पर तंज- 9 करोड़ 99 लाख तक का टेंडर दिया गया

इस पार्टी के बनने के बाद संविधान बना था कि तीन साल तक ही कोई पार्टी का संयोजक रह सकता है, लेकिन एक साल बाद ही नियम बदल गया। अब अरविंद केजरीवाल पूरी जिंदगी पार्टी के मुखिया बने रह सकते हैं। यह पार्टी 72 दिनों में बदल गई और कांग्रेस से समझौता कर लिया। हम तो 72 सालों में कभी कांग्रेस के साथ नहीं गए। इस दौरान सुधांशु त्रिवेदी ने अरविंद केजरीवाल पर हमला बोलते हुए कहा कि ये खुद को सबसे पढ़ा-लिखा सीएम बताते हैं, लेकिन इनकी समझ तीन मामलों से पता चलती है। इन्होंने तो यह भी कहा था कि कोरोना वैक्सीन का फॉर्मूला चूरन की तरह बांट दिया जाए। यही नहीं इन्होंने कहा कि यूट्यूब पर फिल्म को अपलोड कर दिया जाए।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch