Thursday , February 22 2024

पहले चाचा भतीजा की सीक्रेट मीटिंग, अब एक मंच पर शरद पवार और फडणवीस, महाराष्ट्र में अचानक क्यों बढ़ी सरगर्मी

मुंबई। महाराष्ट्र की सियासत में फिलहाल काफी हलचल है। कौन सा नेता कब शरद पवार के गुट से अजित पवार गुट में जाएगा। यह कहना मुश्किल हो चुका है। प्रदेश में सियासी नैतिकता की दुहाई देने वाले भी मौजूदा घटनाक्रम देखकर नदारद हैं। एक तरफ जहां पुणे में शनिवार की दोपहर शरद पवार और अजित पवार के बीच सीक्रेट मीटिंग हुई है। वहीं एनसीपी में फूट के बाद देवेंद्र फडणवीस और शरद पवार आज एकसाथ एक मंच पर आने वाले हैं। दोनों नेता सांगोला में दिवंगत गणपतराव देशमुख की प्रतिमा के अनावरण के मौके पर एक मंच पर होंगे। इससे राजनीतिक गलियारे में एक बार फिर अटकलों और कयासों का बाजार गर्म है। शरद पवार और देवेंद्र फडणवीस एक मंच पर क्या बोलेंगे? इस पर सबकी नजर रहेगी। सांगोला के विधायक शाहजी बापू पाटिल के निर्वाचन क्षेत्र में दोनों नेताओं का एक-दूसरे का आमना-सामना होने जा रहा है। कुछ दिन पहले 1 अगस्त को पुणे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मंच साझा किया था।

हालांकि, तब प्रधानमंत्री के साथ राज्य के राज्यपाल, मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, उप मुख्यमंत्री अजीत पवार और अन्य नेता भी मौजूद थे। उस समय भी मोदी और पवार के एकसाथ मंच साझा करने पर जमकर सियासत हुई थी। महाविकास अघाड़ी के सहयोगी दलों ने भी अपनी नाराजगी दर्ज कराई थी।

दिवंगत शेकाप नेता भाई गणपतराव देशमुख के स्मारक का अनावरण किया जाएगा। इस कार्यक्रम के लिए शरद पवार दोपहर ढाई बजे सोलापुर से पहुंचेंगे। उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी दोपहर ढाई बजे सांगोला पहुंचेंगे। अजित पवार द्वारा शिवसेना-बीजेपी को समर्थन देने के बाद शरद पवार ने बीजेपी के विरोध में अपना पक्ष रखा है। उन्होंने स्पष्ट किया है कि वो बीजेपी से हाथ नहीं मिलाएंगे। इसके अलावा उन्होंने ‘इंडिया’ मीटिंग में हिस्सा लिया है।

मुंबई में ‘इंडिया’ समिट की तारीख तय, जानिए किस दिन और कहां होगा आयोजन

चाचा भतीजा की सीक्रेट मीटिंग
एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार और पार्टी के बागी गुट का नेतृत्व कर रहे उपमुख्यमंत्री अजित पवार के शनिवार को पुणे में एक कारोबारी के आवास पर मुलाकात के बाद महाराष्ट्र में राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई है। इस मीटिंग पर एनसीपी नेता अमोल मिटकरी ने कहा, ‘यह दोनों नेताओं के बीच पारिवारिक मुलाकात हो सकती है।’

शरद पवार दोपहर करीब एक बजे कोरेगांव पार्क क्षेत्र में कारोबारी के आवास पर पहुंचे थे। शाम करीब पांच बजे शरद पवार चले गये। लगभग दो घंटे के बाद शरद पवार के भतीजे अजित पवार को शाम पौने सात बजे कैमरे से बचने की कोशिश करते हुए एक कार में परिसर से बाहर निकलते देखा गया। इस मीटिंग में शरद पवार गुट के जयंत पाटिल भी शामिल थे।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch