Thursday , February 22 2024

वसुधैव कुटुंबकम और महर्षि से चिढ़ा चीन, जी-20 में कल्चर थोपने का आरोप; मीटिंग में भड़का

वसुधैव कुटुंबकम और महर्षि से चिढ़ा चीन, जी-20 में कल्चर थोपने का आरोप; मीटिंग में भड़कानई दिल्ली। इसी हफ्ते 9-10 सितंबर को नई दिल्ली में जी-20 का शिखर सम्मेलन होने जा रहा है। चीन ने आधिकारिक तौर पर बता दिया है कि उसके राष्ट्रपति शी जिनपिंग समिट में शामिल नहीं होंगे। उनकी जगह प्रधानमंत्री ली कियांग चीनी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे। इसके साथ ही भारत और चीन के अधिकारी समिट में जारी होने वाले साझा विज्ञप्ति पर भी बातचीत कर रहे हैं। चीन इसमें वन बेल्ट, वन रोड कॉन्सेप्ट को शामिल करना चाहता है, जबकि भारत वसुधैव कुटुम्बकम को शामिल करना चाहता है।

भारत की थीम पर आपत्ति जताते हुए चीनी प्रतिनिधिमंडल में संस्कृत विशेषज्ञों ने कहा है कि वसुधैव कुटुंबकम का अर्थ “दुनिया एक परिवार” होता है, जबकि भारत की थीम- एक पृथ्वी, एक परिवार – उस अर्थ को तो दर्शाता है लेकिन भारत की थीम में “एक भविष्य” भी जुड़ा है, जो वसुधैव कुटुंबकम का हिस्सा नहीं है। इसलिए, बीजिंग के संस्कृत विशेषज्ञों ने वसुधैव कुटुंबकम को “एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य” का पर्याय नहीं है और इस वाक्यांश को विज्ञप्ति में शामिल करने पर आपत्ति जता रहे हैं।

सूत्रों ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया है कि जी-20 देशों के शीर्ष वार्ताकार (शेरपा) दस्तावेज़ को अंतिम रूप देने के लिए अगले तीन दिनों के लिए मानेसर में मिलेंगे। सूत्रों ने इस संभावना को भी दरकिनार कर दिया है कि वे संयुक्त बयान में वन बेल्ट, वन रोड या वसुधैव कुटुंबकम में से किसी एक को शामिल करेंगे। बता दें कि रूस-यूक्रेन युद्ध ने पिछले नौ महीनों से जी-20 समूह को लामबंद कर दिया है। इसी ध्रुवीकरण के बीच भारत और चीन अंतिम शिखर घोषणा पर अपनी-अपनी दार्शनिक छाप छोड़ने के लिए बातचीत कर रहे हैं।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch