Tuesday , June 18 2024

‘कलेक्टर के मुंह पर पर थूक दो, अधिकारियों को फटे जूते की माला पहनाओ’ तेजस्वी के विधायक ने पार की हदें

कैमूर में आयोजित किसान सभा में राकेश टिकैत भी शामिल हुए. इस दौरान सुधाकर सिंह ने भी किसानों को संबोधित किया. अपने बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में रहने वाले बिहार के पूर्व कृषि मंत्री सुधाकर सिंह आए दिन अपने विवादित बयानों से राजनीतिक गलियारों में खलबली मचाते रहते हैं. इस बार फिर तेजस्वी यादव कि पार्टी आरजेडी के विधायक सुधाकर सिंह ने विवादित बयान दिया है, जिसके बाद बवाल मचना तय माना जा रहा है. ताजा मामला बिहार के कैमूर जिले से है, जहां सुधाकर सिंह ने किसान सभा को संबोधित  करते हुए विवादित बयान दिया है. आरजेडी विधायक सुधाकर सिंह ने एक सभा को संबोधित करते हुए अपने समर्थकों को समझाया कि बगैर लाठी-डंडे के कैसे बिहार के अधिकारियों को ठीक किया जा सकता है.

सुधाकर सिंह ने कहा-अधिकारियों को ठीक करने का आसान तरीका है. उनके मुंह पर थूक दो, कलक्टर के मुंह पर सौ आदमी थूकियेगा तो कौन दफा लगाकर आपको जेल भेजेगा, कोई दफा लगेगा क्या? दरअसल भभुआ के लिच्छवी भवन पर किसान सभा को संबोधित करते हुए सुधाकर सिंह ने सरकार और अधिकारियों पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि अगर आप लोग आंदोलन के दौरान अधिकारियों पर लाठी बरसते हैं और उनका सर फट जाएगा तो आप पर 302 और 307 लग जाएगा. लेकिन, 100 लोग मिलकर कलेक्टर के मुंह पर थूक देंगे तो कलेक्टर 100 लोगों पर क्या दफा लगाएगा?

इस दौरान सुधाकर सिंह ने कहा कि फूलों की माला की जगह अधिकारियों को फटे हुए जूते और चप्पलों की माला पहनाइए. अगर कोई अधिकारी बाजार में सब्जी देने आता है तो उसे अंगूठा दिखाइए. इन सब चीजों से आप लोगों पर किसी भी तरह का कोई धारा नहीं लगेगा. सुधाकर सिंह ने कहा आज से फूल का माला पहनाना बंद कर दीजिए.
दरअसल भारतमाला परियोजना के तहत बनारस-कोलकाता एक्सप्रेसवे बनाने को लेकर भारत सरकार द्वारा कैमूर के किसानों की जमीन ली जा रही है. इस मामले में किसानों का आरोप है कि सरकार जमीन का उचित मूल्य नहीं दे रही है, जिसको लेकर रविवार को दूसरी बार किसान यूनियन के नेता राकेश टिकट कैमूर पहुंचे थे. इसी दौरान सभा को आरजेडी विधायक सुधाकर सिंह ने भी संबोधित किया.
साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch