Tuesday , June 18 2024

बिहार के CM नीतीश कुमार ने विधानसभा में दिया ‘सेक्स एजुकेशन’ पर बेहूदा बयान, कहा -‘पढ़ी-लिखी लड़की घुसाने देगी लेकिन बाहर निकाल देगी’.

नीतीश कुमार बयानबिहार विधानसभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जनसंख्या वृद्धि पर सेक्स एजुकेशन को समझाने के लिए कुछ ऐसा बयान दे दिया है कि इस पर सोशल मीडिया में उनकी आलोचना होने लगी। उन्होंने इस दौरान पति-पत्नी के सेक्स पर लगभग 1 मिनट तक बात की। बिहार विधानसभा के विधायक इस पर हँसते हुए दिखे।

नीतीश ने यह बयान विधानसभा में जनसंख्या वृद्धि पर चर्चा के दौरान दिया, विधानसभा में आज जातिगत जनगणना के आँकड़े भी रखे गए हैं। इसी दौरान नीतीश कुमार ने यह बयान दिया जिस पर उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव समेत सभी नेता हंसने लगे।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा, “कि अगर पढ़ लेगी लड़की, और जब शादी होगा तब लड़का लड़की का तो जो पुरुष है वो तो रोज रात में शदिया होता है उसके साथ करता है ना उसी में और पैदा हो जाता है। और लड़की पढ़ लेती है तो हमको मालूम था कि उ करेगा ठीक है! लेकिन अंतिम में भीतर मत घुसाओ उसको बाहर कर दो! करता तो है।”

आगे नीतीश कुमार ने कहा, “उसी में संख्या घट रही है। अब आप जान लीजिए जो संख्या थी पहले, आप पत्रकार लोग भी ठीक समझिए। याद करिए, पहले क्या था 4.3, अब घटते घटते, लास्ट ईयर के पहले जो रिपोर्ट आई है, अभी तो हम कहे हैं और भी नया रिपोर्ट दे दो। उस रिपोर्ट में आया है 2.9, अब हम लोग बहुत जल्दी 2 पर पहुँच जाएँगे।”

नीतीश कुमार के इस बयान पर सदन में मौजूद सभी विधायक हँसने लगे। सदन में काफी देर नीतीश के इस तर्क पर ठहाके लगते रहे। अब इस बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है। सोशल मीडिया पर इसे शेयर करके लोग अलग अलग तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

एक्स (पहले ट्विटर) पर एक महिला रिनिती चैटर्जी पांडे ने लिखा, “किसी विधानसभा में ऐसी बेहूदा बातें आज़ादी के बाद से किसी ने नहीं कही होगी आज नीतीश कुमार ने सारी हदें पार कर दी थू है।”

अभय प्रताप सिंह ने लिखा, “CM नीतीश कुमार का ये बयान सुनिए… विधानसभा में कोई ऐसा कैसे कह सकता है ?’ ऋषि राजपूत ने लिखा, “नीतीश कुमार ने जो सदन में कहा वह पूरी तरह से अमर्यादित है। मुझे शर्म आ रही है कि नीतीश कुमार मेरे प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं, आज पूरा बिहार शर्मशार हो गया।”

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch