Sunday , February 25 2024

भगवान के दर्शन के लिए बिचौलिये नहीं चाहिए, 22 जनवरी का आयोजन धार्मिक नहीं; कांग्रेस का BJP पर हमला

भगवान के दर्शन के लिए बिचौलिये नहीं चाहिए, 22 जनवरी का आयोजन धार्मिक नहीं; कांग्रेस का BJP पर हमलाकांग्रेस ने शुक्रवार को दावा किया कि 22 जनवरी को अयोध्या में होने वाला प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम धार्मिक नहीं बल्कि पूरी तरह से राजनीतिक है क्योंकि इसे विधि-विधान से और चारों पीठों के शंकराचार्यों की देखरेख में नहीं किया जा रहा है। पार्टी के मीडिया विभाग के प्रमुख पवन खेड़ा ने भारतीय जनता पार्टी पर पलटवार करते हुए यह भी कहा कि भगवान राम के दर्शन के लिए किसी बिचौलिये की जरूरत नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि प्राण प्रतिष्ठा समारोह के लिए 22 जनवरी की तारीख का चयन लोकसभा चुनाव को देखते हुए किया गया है।

उन्होंने कहा, ” एक व्यक्ति के राजनीतिक तमाशे के लिए हम अपने भगवान और आस्था के साथ खिलवाड़ नहीं देख सकते… यह धार्मिक आयोजन नहीं है, यह पूर्ण रूप से राजनीतिक आयोजन है।”कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कहा, ” जहां हमारे शंकराचार्य नहीं जा रहे हैं, हम वहां नहीं जा रहे हैं। बहुत ही वीभत्स राजनीति की जा रही है। ” उन्होंने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी ने सनातन धर्म को ही संप्रदायों में बांटने का काम किया है। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि शंकराचार्यों का अपमान हिंदू धर्म के अनुयायियों का भी अपमान है। सुप्रिया ने कहा कि उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सभी प्रमुख नेता 15 जनवरी को मकर संक्रांति के अवसर पर अयोध्या जा रहे हैं।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch