Sunday , February 25 2024

महाराष्ट्र में कॉन्ग्रेस का तीसरा बड़ा विकेट गिरा, 2 बार CM रहे अशोक चव्हाण ने छोड़ी पार्टी: मिलिंद देवड़ा और बाबा सिद्दीकी भी दे चुके हैं झटका

अशोक चव्हाण, महाराष्ट्र कॉन्ग्रेसमहाराष्ट्र में कॉन्ग्रेस पार्टी को बड़ा झटका लगा है। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने पार्टी को अलविदा कह दिया है। महाराष्ट्र में कुछ ही महीनों में न सिर्फ लोकसभा चुनाव, बल्कि उसके बाद विधानसभा चुनाव भी होने हैं। उन्होंने कॉन्ग्रेस पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। अशोक चव्हाण के बारे में ये भी अटकलें हैं कि वो पर्दे के पीछे भाजपा के साथ बातचीत कर रहे हैं। चर्चा ये भी है कि अशोक चव्हाण को राज्यसभा सांसद बनाया जा सकता है।

अशोक चव्हाण नांदेड़ के भोकर विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। 2009 में भी उन्होंने यहाँ से जीत दर्ज की थी, जबकि 2014 में उनकी पत्नी अमीता यहाँ से विधायक बनी थीं। वो 2 बार महाराष्ट्र के CM रहे हैं – एक बार दिसंबर 2008 से लेकर नवंबर 2009 तक और दूसरी बार दिसंबर 2019 से लेकर जून 2022 तक। उनके कार्यकाल में महाराष्ट्र में आदर्श सोसाइटी घोटाला भी सामने आया। आदर्श सोसाइटी बलिदानी सैनिकों के परिजनों को घर देने के लिए बनाई गई थी, जिसमें बड़ा घपला हुआ था।

अशोक चव्हाण ने विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर से मिल कर विधायक पद से भी अपना इस्तीफा सौंप दिया है। इससे पहले मुंबई कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष रहे मिलिंद देवड़ा भी कॉन्ग्रेस छोड़ कर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के गुट वाली शिवसेना में शामिल हो चुके हैं। मिलिंद देवड़ा राजनीतिक परिवार से आते हैं और केंद्रीय मंत्री भी रहे हैं। इन दोनों के अलावा महाराष्ट्र में कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता बाबा सिद्दीकी भी पार्टी छोड़ कर अजीत पवार के गुट वाली NCP का दामन थाम चुके हैं।

महाराष्ट्र भाजपा के अध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले ने कहा कि महाराष्ट्र में कॉन्ग्रेस पार्टी के भीतर काफी अंतरकलह है। कई छोटे नेता-कार्यकर्ता भी भाजपा में शामिल हुए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि राहुल गाँधी OBC को गाली देते हैं, इसे कैसे कोई सहन करेगा। उप-मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी कहा है कि कॉन्ग्रेस के कई अच्छे नेता भाजपा के संपर्क में हैं। उन्होंने कहा था कि जनता से जुड़े हुए नेता कॉन्ग्रेस में घुटन महसूस कर रहे हैं।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch