Saturday , June 15 2024

ED कस्टडी से ऑर्डर ‘भेज’ केजरीवाल ने मंत्री आतिशी को फँसाया? बीजेपी ने कहा- दर्ज हो FIR, सौरभ भारद्वाज बोले- अब हेल्थ डिपार्टमेंट के लिए आया है CM का आदेश

आतिशी और केजरीवालदिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रवर्तन निदेशालय (ED) की हिरासत से मंगलवार (26 मार्च 2024) को एक बार फिर आदेश जारी किया। इस बार उन्होंने निर्देश दिया है कि मोहल्ला क्लीनिक में मुफ्त दवाओं की कोई कमी नहीं होनी चाहिए। इस बार की जानकारी स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने दी है। इसके पहले सीएम केजरीवाल ने दिल्ली में गर्मी को को देखते हुए पानी के टैंकरों की पर्याप्त व्यवस्था करने का आदेश दिया है।

दरअसल, दिल्ली शराब नीति घोटाले में ED द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद सीएम केजरीवाल ने कहा था कि वे जेल से ही सरकार चलाएँगे। इसके बाद उन्होंने रविवार (24 मार्च 2024) को अपना पहला आदेश जारी किया था। यह निर्देश जल मंत्रालय से संबंधित था। उन्होंने मंगलवार को दूसरा निर्देश जारी किया, जो सौरभ भारद्वाज के स्वास्थ्य मंत्रालय से संबंधित है। इसको लेकर भाजपा हमलावर है।

भाजपा जेल में होने के कारण अरविंद केजरीवाल से मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे की माँग कर रही है। भाजपा ने मंगलवार (26 मार्च 2024) को सीएम केजरीवाल के इस्तीफे की माँग को लेकर दिल्ली सचिवालय की ओर विरोध मार्च निकाला। इस दौरान दिल्ली पुलिस ने भाजपा कार्यकर्ताओं पर पानी की बौछारें कीं।

इस दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं ने ‘अरविंद केजरीवाल इस्तीफा दो’, ‘इस्तीफा दो इस्तीफा दो, केजरीवाल इस्तीफा दो’, ‘गली-गली में शोर है केजरीवाल चोर है’ के नारे लगाए। हालाँकि, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इस्तीफा देने के मूड में नहीं दिख रहे हैं। वे पहले ही कह चुके हैं कि जेल से सरकार चलाएँगे।

उधर, भाजपा के राष्ट्रीय सचिव मनजिंदर सिंह सिरसा ने आम आदमी पार्टी के मुखिया और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की चिट्ठी को लेकर दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना और ED से शिकायत की है। उन्होंने इस चिट्ठी को गैरकानूनी, असंवैधानिक और मुख्यमंत्री कार्यालय का दुरूपयोग बताया है।

सिरसा ने कहा, “आज मैंने दिल्ली के उपराज्यपाल और प्रवर्तन निदेशालय को आतिशी जी और उनके साथियों के खिलाफ कंप्लेन की है। इन्होंने मुख्यमंत्री जी के नाम से एक अवैध चिट्ठी दिखाई और ये कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री का ऑर्डर है। इस ऑर्डर को मुख्यमंत्री जी ने ED की कस्टडी में जेल में रहते हुए ये ऑर्डर पास किया है। ये पूरी तरह से गैर-कानूनी और असंवैधानिक था।”

उन्होंने आगे कहा, ये मुख्यमंत्री कार्यालय का पूरी तरह दुरूपयोग है। ये आपराधिक साजिश है दिल्ली के लोगों के साथ, दिल्ली के मुख्यमंत्री के दफ्तर के साथ। दिल्ली के लोगों की चुनी हुई सरकार के द्वारा अपने मुख्यमंत्री के पद का दुरूपयोग किया जा रहा है। ED की कस्टडी में रहते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कोई ऑर्डर नहीं पास कर सकते। इस तरह का कोई प्रावधान नहीं है।”

सिरसा ने कहा, “अरविंद केजरीवाल के नाम से जो ये गलत काम किया गया है, मैंने उपराज्यपाल जी से आग्रह किया है कि तुरंत इसकी इंक्वायरी की जाए और मुकदमा दर्ज की जाए। मुख्यमंत्री जी का ऑफिस गैर-कानूनी तरीके से चलाने में, उसे हाईजैक करने में, आपराधिक साजिश रचने में आतिशी जी और जो-जो लोग इन्वॉल्व थे उन्हें एक्सपोज किया जाए।”

बता दें कि सीएम केजरीवाल के ऑर्डर को लेकर दिल्ली सरकार की मंत्री आतिशी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस किया था और कहा था कि सीएम केजरीवाल ने जेल से एक निर्देश दिया है। टाइप की हुई एक चिट्ठी दिखाते हुए उन्होंने कहा था कि अरविंद केजरीवाल दिल्ली के लोगों को लेकर जेल में रहते हुए भी चिंतित हैं।

इस कथित नोट में लिखा था, “मुझे पता चला है कि दिल्ली के इलाकों में पानी और सीवर की काफी समस्या हो रही है। इसको लेकर मैं चिंतित हूँ। चूँकि मैं जेल में हूँ, इस वजह से लोगों को जरा भी तकलीफ नहीं होनी चाहिए। गर्मियाँ आ रही हैं। जहाँ पानी की कमी है, वहाँ उचित संख्या में टैंकरों का इंतजाम कीजिए। मुख्य सचिव समेत अन्य अधिकारियों को आदेश दीजिए ताकि जनता को किसी तरह की परेशानी ना हो।”

नोट में आगे लिखा था, “जनता की समस्याओं का तुरंत और समुचित समाधान होना चाहिए। जरूरत पड़ने पर उपराज्यपाल महोदय का भी सहयोग लें। वे भी आपकी मदद जरूर करेंगे।” आतिशी ने बताया था कि सीएम केजरीवाल ने यह नोट अपने वकील के माध्यम से मुख्यमंत्री कार्यालय को भेजा था। बता दें कि सीएम केजरीवाल को 28 मार्च तक ईडी की रिमांड पर हैं।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch