Sunday , June 16 2024

पाकिस्तान में आत्मघाती हमला, मारे गए 5 चीनी नागरिक; बढ़ सकता है आंकड़ा

पाकिस्तान में आत्मघाती हमला, मारे गए 5 चीनी नागरिक; बढ़ सकता है आंकड़ापाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा में एक भीषण आत्मघाती हमला हुआ है। इस आतंकी हमले में 5 चीनी नागरिक मारे गए हैं। खैबर के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मुहम्मद अली गंदापुर ने कहा, ‘आतंकी हमले में 5 चीनी नागरिक और एक स्थानीय ड्राइवर भी मारा गया है।’ अब तक मिली जानकारी के अनुसार मारे गए चीनी पेशे से इंजीनियर थे और पाकिस्तान में चल रहे प्रोजेक्ट्स के लिए काम कर रहे थे। डॉन न्यूज के मुताबिक विस्फोटकों से लदे एक वाहन को आतंकी ने चीनी इंजीनियरों के काफिले में घुसा दिया और एक वाहन से टक्कर मार दी। इस घटना में मौतों का आंकड़ा बढ़ भी सकता है।

हमले में मारे गए चीनी इंजीनियर पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद से दासू जा रहे थे, जहां उनके ठहरने के लिए कैंप बना था। यह हमला खैबर पख्तूनख्वा के शांगला में बेशम सिटी के पास हुआ। इससे पहले भी बीते साल कई हमले पाकिस्तान में हुए थे, जिनमें चीनी नागरिकों को निशाना बनाया गया था। खासतौर पर पाकिस्तान और चीन के संयुक्त प्रोजेक्ट चाइना पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर का विरोध होता रहा है, जिसके चलते ये हमले हुए हैं। बलूचिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा में एक बड़े वर्ग का मानना है कि उनके संसाधनों का दोहन किया जा रहा है, लेकिन उन्हें कोई फायदा नहीं मिल रहा है।

बलूचिस्तान में तो पाकिस्तान के निर्माण के दौर से ही अलगाववादी आंदोलन चलता रहा है। इसकी वजह यह है कि बलूचिस्तान के शासक कलात खान नहीं चाहते थे कि पाकिस्तान में उनके राज्य का विलय हो। इस पर मोहम्मद अली जिन्ना ने भरोसा भी दिया था, लेकिन कुछ महीने बाद ही बंदूक के दम पर उसका विलय हो गया। इसके चलते अब तक बलूचिस्तान में गुस्सा रहा है और आंदोलन चलते रहे हैं। बलूच लिबरेशन आर्मी समेत कई ऐसे हथियारबंद संगठन हैं, जो पाकिस्तान को निशाना बनाते रहे हैं।

पुलिस का कहना है कि हमले के बाद उन लोगों को तत्काल अस्पताल ले जाया गया है, जो जख्मी हुए हैं। इसके अलावा अन्य लोगों को पूरी सुरक्षा के साथ दूसरी जगह शिफ्ट किया गया। पुलिस ने कहा कि यह आत्मघाती हमला था। हम इसके बारे में डिटेल में जानकारी जुटा रहे हैं। मौके पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। स्थानीय थाना प्रभारी ने कहा कि हम यह जांच करेंगे कि आखिर आत्मघाती हमलावर को वाहन कहां से मिला और कैसे वह काफिले तक पहुंच गया।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch