Friday , June 14 2024

स्वाति मालीवाल पर AAP का यूटर्न: पहले पार्टी ने कहा कि केजरीवाल के पीए विभव ने की बदतमीजी, अब महिला सांसद के आरोप को बता रही फर्जी

विभव कुमार और स्वाति मालीवालआम आदमी पार्टी की राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पीए विभव कुमार के बीच मारपीट का मामला गंभीर होता जा रहा है। एक तरफ स्वाति मालीवाल ने विभव कुमार के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है तो दूसरी तरफ विभव कुमार ने भी क्रॉस FIR दर्ज करवाई है। आम आदमी पार्टी स्वाति मालीवाल के साथ हुई घटना को अब भाजपा की साजिश बता रही है।

बता दें कि 13 मई 2024 को सुबह 9:10 मिनट पर स्वाति मालीवाल सीएम केजरीवाल के आवास पहुँची थीं। मीडिया में कहा गया कि चूँकि केजरीवाल सरकार ने उनसे इस्तीफा माँगा था, इसलिए वो वहाँ बात करने गई थीं। करीबन 24 मिनट बाद 9:34 पर स्वाति मालीवाल के नाम से पीसीआर को कॉल गई। उन्होंने बताया कि उनसे साथ सीएम आवास में हिंसा हुई है।

मामला जब मीडिया में आया तो आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने मामले को संभालने की कोशिश की। उन्होंने 14 मई को प्रेस कॉन्फ्रेंस की और कहा कि स्वाति मालीवाल के साथ विभव कुमार ने बदसलूकी की थी। उन्होंने यह भी कहा था कि पार्टी स्वाति मालीवाल के साथ मजबूती से खड़ी है।

इतना ही नहीं, संजय सिंह ने यहाँ तक दावा किया था कि स्वाति मालीवाल के साथ हई घटना निंदनीय थी और इस पर अरविंद केजरीवाल ने संज्ञान लेते हुए कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। संजय सिंह ने कहा था कि स्वाति मालीवाल मुख्यमंत्री के आवास पर पहुँचकर ड्राइंग रूम में बैठी थीं। तभी केजरीवाल के पीए विभव कुमार वहाँ पहुँचे और स्वाति मालीवाल के साथ बदतमीजी की।

लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जब पत्रकारों ने उनसे मालीवाल से संबंधित सवाल किया तो वो असहज हो गए। तब अखिलेश यादव ने माइक लेकर कहा कि ‘इससे भी महत्वपूर्ण मामले हैं देश में बात करने के लिए’। इस तरह आम आदमी पार्टी का दोमुँहा चेहरा सामने आ गया। आखिरकार स्वाति मामलीवाल ने थाने में जाकर औपचारिक शिकायत दर्ज कराने के लिए मजबूर हो गईंं।

अब आम आदमी पार्टी की ओर से दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने शुक्रवार (17 मई) को एक एक प्रेस कॉन्ग्रेस किया और पूरे मामले को ही झूठा बता दिया। इस तरह बीतते समय के साथ आम आदमी पार्टी ने अपने स्टैंड से यू टर्न ले लिया। जिस मामले में संजय सिंह बता रहे थे कि बदतमीजी हुई थी, उसमें अब AAP की आतिशी कह रही थीं कि ये झूठे आरोप हैं।

दिल्ली सरकार की मंत्री आतिशी ने इस मामले को फर्जी बताया और कहा कि ये बीजेपी की साजिश थी। उन्होंने कहा, “बीजेपी ने साजिश के तहत स्वाति मालीवाल को अरविंद केजरीवाल के घर भेजा। इस षडयंत्र का इरादा था अरविंद केजरीवाल पर झूठे आरोप लगाना। स्वाति मालीवाल इस साजिश का चेहरा थी और मोहरा भी। उस समय अरविंद केजरीवाल मौजूद नहीं थे, इसलिए वो बच गए।”

दिल्ली सरकार की मंत्री ने आगे कहा, “उन्होंने शिकायत में लिखा है कि उनका सर टेबल पर मारा गया, जो फट गया। उनके कपड़े फाड़े गए। लेकिन जो वीडियो सामने आया है, वो उनके दावे के एकदम विपरीत है। वीडियो में स्वाति ड्राइंग रूम से आराम से बैठी हैं। पुलिस को धमका रही हैं। उनके कपड़े फटे नहीं है। न ही उनके सिर पर चोट दिख रही है। वो बिभव कुमार को धमका रही हैं और अपशब्दों का इस्तेमाल कर रही हैं।”

इस तरह कल तक स्वाति मालीवाल के साथ खड़ी रहने का दावा करने वाली आम आदमी पार्टी अब यू टर्न ले चुकी है और स्वाति मालीवाल को ही दोषी ठहराने लगी हैं। इस पूरे मामले में जिस तरह से पार्टी ने यू टर्न लिया है, उससे साफ लग रहा है कि पार्टी उन्हें बचाने के लिए हर तरह का प्रयास कर रही है।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch