Monday , July 22 2024

बांग्लादेशी घुसपैठियों को लेकर छलका तस्लीमा का दर्द, बोलीं- इंसान अवैध नहीं होते

नई दिल्ली। राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) की ड्राफ्ट सूची में 40 लाख लोगों का नाम शामिल न होने से उनकी नागरिकता को लेकर मचे सियासी घमासान के बीच भारत में रह रही बांग्लादेशी लेखिका तस्लीमा नसरीन अवैध शरणार्थियों के समर्थन में खुलकर सामने आ गई हैं.

तस्लीमा ने ट्विटर पर लिखा है कि किसी भी व्यक्ति को अवैध नहीं कहना चाहिए. बांग्लादेशी लोग जो भारत में अवैध तरीके से प्रवेश कर गए हैं, उनका आना भारत के कानून के हिसाब से अवैध हैं, लेकिन वे अवैध नहीं है. पूर्व में मनुष्य बेहतर जीवन की तलाश में अफ्रीका से एशिया की तरफ आए. तब से लेकर मानव जाति भ्रमण कर रही है. हमारे पूर्वज अवैध नहीं थे.

taslima nasreen

@taslimanasreen

No person shld be called illegal immigrant. B’deshi ppl who illegally enter India, their acts are illegal based on Indian law,but they r not ‘illegal’.Early humans moved from Africa to Asia for a better life. Since then humans hv been moving. Our human ancestors were not illegal.

इसके बाद NRC की लिस्ट पर देश में पक्ष और विपक्ष के बीच हो रही सियासत पर टिप्पणी करते हुए तस्लीमा ने ट्वीट किया कि भारत में काफी मुस्लिम हैं. भारत को पड़ोसी देशों से और मुस्लिमों की जरूरत नहीं है. लेकिन समस्या यह है कि भारतीय राजनेताओं को इनकी (मुस्लिमों) की जरूरत है.

taslima nasreen

@taslimanasreen

India has enough Muslims. India does not need more Muslims from neighbouring countries. But the problem is, Indian politicians need them.

उल्लेखनीय है कि इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए तस्लीमा ने मंगवार को ट्वीट कर लिखा था कि ‘यह देखकर अच्‍छा लगा कि ममता बनर्जी 40 लाख बांग्‍ला बोलने वालों के लिए इतनी ज्‍यादा सहानुभूति रखती हैं. उन्‍होंने यहां तक कह दिया है कि वह असम बाहर किए जाने वाले लोगों को वह शरण देंगी. उनकी यह सहानुभूति तब कहां थी जब उनकी विरोधी पार्टी ने मुझे पश्चिम बंगाल से बाहर कर दिया था’

taslima nasreen

@taslimanasreen

Good to see Mamtaji is so sympathetic to 40 lakh Bengali speaking people. She even says West Bengal will shelter those people left out of Assam. How come she doesn’t have any sympathy for me who was thrown out of Bengal by her rival party?

तस्लीमा ने ट्वीट कर आगे यह भी लिखा कि ‘ममता के अंदर सभी बेघर बांग्‍ला बोलने वालों के लिए के सहानुभूति नहीं है। यदि उनके अंदर होता तो उनके अंदर मेरे लिए भी होती और उन्‍होंने मुझे भी पश्चिम बंगाल में आने की अनुमति दी होती.

taslima nasreen

@taslimanasreen

Mamtaji does not have sympathy for all rootless or homeless Bengali speaking people. If she had, she would have sympathy for me and she would have allowed me to enter West Bengal.

बता दें कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दिल्ली में आयोजित एक सम्मेलन में विवादास्पद वयान दिया था कि NRC की सूची राजनीतिक मंशा से तैयार की जा रही है. हम ऐसा होने नहीं देंगे. वे (बीजेपी) लोगों को बांटने की कोशिश कर रहे हैं. इस हालात को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. देश में गृह युद्ध, खूनखराबा हो जाएगा.
साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin