Monday , July 15 2024

मुजफ्फरपुर कांड: मंत्री मंजू वर्मा के इस्तीफे के बाद अब सीएम नीतीश के इस्तीफे की मांग

पटना। मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप केस में पति का नाम आने के बाद आखिरकार कल नीतीश कुमार सरकार में मंत्री मंजू वर्मा ने इस्तीफा दे दिया. इस्तीफा देने के बाद मंजू वर्मा ने कहा कि रसूखदारों को बचाने के लिए मेरे पति को निशाना बनाया जा रहा है. मुजफ्फरपुर कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के साथ मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा का कनेक्शन सामने आया है. कल जांच एजेंसी की एक रिपोर्ट सामने आई जिसके मुताबिक इस साल जनवरी से लेकर मई तक ब्रजेश ठाकुर और मंजू वर्मा के पति के बीच 17 बार बात हुई.

नीतीश कुमार इस्तीफा दें: आरजेडी
मंजूवर्मा के इस्तीफे के बाद अब विपक्ष मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इस्तीफे की मांग कर रहा है. आजरेडी के नेताओं का कहना है कि नीतीश कुमार को नैतिकता के आधार पर कुर्सी छोड़ देनी चाहिए. आरजेडी ने ट्वीट किया कि बिहार सरकार के एक और मंत्री, जो मुजफ्फरपुर कांड में संलिप्त हैं. राज्य के बाहर जाकर खूब गुल खिलाने के लिए प्रचलित हैं, नीतीश कुमार के साथ इस्तीफ़ा दें.

ब्रजेश ठाकुर ने मंजू वर्मा के पति से संपर्क की बात मानी
कल कोर्ट में पेशी पर आए ब्रजेश ठाकुर ने मंजू वर्मा के पति से संपर्क करने की बात कही थी. इसके साथ ही उसने दावा किया था कि वो जल्द ही कांग्रेस में शामिल होकर चुनाव लड़ने वाला था. इसीलिए उसे फंसाया जा रहा है. उसके बिहार के कई बड़े अखबारों पर भी फर्जी तरीके से विज्ञापन लेने का आरोप लगाया.

मंजूवर्मा के इस्तीफे की कहानी
सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में मंजू वर्मा को क्लीन चिट नहीं दी लेकिन वेट एन्ड वॉच पर ज़रूर रखा. इसी बीच मंत्री वर्मा जमकर जाति की दुहाई देती रहीं. तेजस्वी यादव पर भड़कती रही तो कभी कैमरे पर आंसू भी बहाती रहीं. लेकिन मंगलवार को जांच एजेंसी के हवाले से जैसे ही खबर आई की मंजू वर्मा के पति और ब्रजेश ठाकुर के बीच इस साल जनवरी से लेकर मई तक 17 बार बातचीत हुई तो मामला गरमाने लगा.

नीतीश भी भांप गए कि आगे खतरा हो सकता है. लिहाजा आज अपने कोर टीम को बुलाया. कोर टीम आज थोड़ी बड़ी थी. कोर टीम में मंत्री बिजेंद्र यादव, मंत्री ललन सिंह, मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, विधायक अभय कुशवाहा भी मौजूद थे. करीब दो घंटे तक बैठक चली. लगभग तीन बजे मंजू वर्मा को इस्तीफे के साथ तलब किया गया. मंजू वर्मा करीब 20 मिनट तक रुकीं और फिर वापस घर लौट गईं.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin