Saturday , July 20 2024

अब सबकुछ ‘हरि’ भरोसे है, उम्‍मीद है सांसदों पर हरिकृपा बनी रहेगी: पीएम मोदी

नई दिल्ली। 26 साल बाद राज्यसभा के उपसभापति पद के लिए चुनाव हुआ. सुबह 11 बजे के बाद हुई वोटिंग में एनडीए के हरिवंश नारायण सिंह उपसभापति पद के लिए चुने गए. राज्यसभा के उपसभापति पद के लिए एनडीए हरिवंश नारायण सिंह की टक्कर कांग्रेस के प्रत्याशी बीके हरिप्रसाद से थी. एनडीए के हरिवंश को 125, जबकि यूपीए के बीके हरिप्रसाद को 105 वोट मिले. इसके बाद एनडीए के हरिवंश को उपसभापति पद के लिए चुने जाने की घोषणा सभापति द्वारा की गई. चुनाव जीतने के बाद उपसभापति हरिवंश की सीट बदली गई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राज्यसभा के नेता अरुण जेटली, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने हरिवंश के सीट पर जाकर उन्हें बधाई.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदन में अपने संबोधन में नए उपसभापति हरिवंश को बधाई देते हुए कहा कि अगस्त क्रांति में बलिया का अहम योगदान रहा है और हरिवंश भी उसी भूमि से आते हैं. उन्होंने कहा कि चकाचौंध को छोड़कर हरिवंश ने सादा जीवन जिया है और उन्हें पत्रकारिता के मजबूत लोगों के साथ काम करने का अनुभव है. उपसभापति हरिवंश की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि सांसद के रूप में हरिवंश जी का कार्यकाल सफल रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि इस चुनाव में दोनों तरफ हरि थे और मेरा मानना है कि अब सदन में हरि कृपा बनी रहेगी.

पीएम मोदी ने कहा कि हरिवंश जी चंद्रशेखर के साथ काम किया और पद की गरिमा का हमेशा ख्याल रखा. हरिवंश जी कलम के धनी हैं. उन्होंने प्रभात खबर को बुलंदियों पर पहुंचाया. उन्होंने कहा, वे जेपी के सपनों को पूरा करने में जुटे रहे हैं और बलिया से हरिवंश के रूप में उपसभापति मिला है. घर की परिस्थितियों के वजह से बैंक में नौकरी की. देश के कई प्रदेशों में नौकरी करने के बाद भी वो अपने मकसद से नहीं भटके.

पीएम मोदी ने कहा कि खिलाड़ियों से ज्यादा अंपायर परेशान होता है. सदन में सभी को नियमों में खेलने के लिए मजबूर करना है. पीएम मोदी ने कहा कि हरिवंश जी का पूरा परिवार जेपी और गांधी से जुड़ा हुआ है. ये चुनाव अहम था, क्योंकि दोनों तरफ हरी थे. उम्मीद है हरी कृपा बनी रहेगी. उन्होंने कहा कि अब संसद में सब हरि भरोसे. उन्होंने बीके हरिप्रसाद को सदन की लोकतांत्रिक प्रक्रिया में शामिल होने और चुनाव लड़ने के लिए बधाई दी. उन्होंने सदन के सभी सदस्यों की तरफ से उन्हें बधाई दी. उन्होंने स्‍वास्‍थ्‍य लाभ के बाद अरुण जेटली की मौजूदगी पर भी खुशी जाहिर की.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin