Sunday , July 14 2024

केरल: बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए एकजुट हुआ देश, रेलवे ने भेजा 21 लाख लीटर पीने का पानी

तिरुवनंतपुरम/ नई दिल्ली। प्राकृतिक आपदा से जूझ रहे केरल की मदद के लिए देश ही नहीं दुनियाभर के लोग आगे आ रहे हैं. एक तरफ टेक दिग्गज गूगल और फेसबुक रेस्क्यू ऑपरेशन में केरल सरकार और बचाव दलों की मदद कर रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ संयुक्त अरब अमिरात (UAE) ने केरल की ओर मदद का हाथ बढ़ाया है. बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए यूएई ने कमिटी बनाई है. उपराष्ट्रपति शेख मोहम्मद बिन राशिद ने शुक्रवार को ट्वीट कर लोगों से बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आने की अपील की.

रेलवे ने भेजा पीने का पानी 
भारी बारिश और बाढ़ के चलते राज्य में पीने के पानी और और ईंधन का संकट गहरा गया है. ऐसे में भारतीय रेल ने पीने के पानी के रुप में केरलवासियों के लिए मदद भेजी है. रेलवे ने केरल के लिए 21.5 लाख लीटर पानी भेजा है. जानकारी के मुताबिक, शनिवार दोपहर दो बजे के करीब सात लाख लीटर पानी पुणे से और 21.5 लाख लीटर पानी मध्य प्रदेश के रतलाम जिले से केरल के लिए रवाना किया गया.

एसबीआई ने ऐसे की बाढ़ पीड़ितों की मदद
भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने संकटग्रस्त राज्य को वापस पटरी पर लाने के लिए दो करोड़ दान में दिए हैं. यह जानकारी एसबीआई के एक अधिकारी ने शनिवार को दी. एसबीआई ने अपने सभी 270,000 कर्मचारियों को मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष (सीएमडीआरएफ) में योगदान देने के लिए प्रोत्साहित किया. इसके अलावा बैंक के कर्मचारी राज्य के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में बैंक शाखाओं और एटीएम को फिर से बहाल करने के प्रयास में जुट गए हैं. इसके अलावा बैंक ने कर्ज देने, डुप्लिकेट पासबुक, एटीएम कार्ड, चेक बुक सेवाओं और ईएमआई में देरी होने को लेकर शुल्क में छूट देने की भी घोषणा की.

मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख का मुआवजा
राज्य के कई इलाकों में बाढ़ से हाहाकार मचा हुआ है. कई दशकों बाद आई इस प्राकृतिक आपदा ने अब तक 324 जिंदगियां लील ही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद तत्काल 500 करोड़ रुपए की वित्तीय सहायता देने की घोषणा की है. प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक बयान में बताया कि पीए मोदी ने सभी मृतकों के परिजन को दो-दो लाख रुपए की सहायता राशि और गंभीर रूप से घायल लोगों को 50-50 हजार रुपए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष (पीएमएनआरएफ) से भी देने की घोषणा की है.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin