Monday , April 15 2024

53 साल बाद खुलेगा लाल बहादुर शास्त्री की मौत का सच, रिलीज हुआ फिल्म का Trailer

नई दिल्ली। बॉलीवुड में देश के कई मंत्रियों पर फिल्में बन चुकी हैं, इसी कड़ी में देश के दूसरे प्रधानमंत्री रहे लाल बहादुर शास्त्री पर फिल्म बनाई गई है. लाल बाहादुर शास्त्री की मौत से जुड़ी इस मिस्ट्री थ्रिलर फिल्म ‘द ताशकंद फाइल्स’ का ट्रेलर आज रिलीज किया गया है. फिल्म के ट्रेलर को देखकर लगता है कि इसमें कई सारे मुद्दों को उठाया गया है जो शास्त्री जी की डेथ से जुड़े हुए हैं. फिल्म का निर्माण विवेक अग्निहोत्री ने किया है. इस फिल्म में हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के कई दिग्गज चेहरे काम करते नजर आ रहे हैं.

फिल्म का ट्रेलर शुरू होता है एक बैकग्राउंड आवाज के साथ जो बताती है कि दुनिया की सबसे बड़ी डेमोक्रेसी के दूसरे प्रधानमंत्री रहे लाल बहादुर शास्त्री ताशकंद जाते हैं और वहां पर पाकिस्तान के साथ 1965 की जंग को खत्म करने के लिए समझौता पत्र पर साइन करते हैं. दूसरे ही दिन उनकी मौत हो जाती है. सैकड़ों सवालों के बीच इस मौत पर कोई भी जांच कमेटी नहीं बिठाई जाता है? इसके बाद मिथुन चक्रवर्ती विपक्ष नेता श्याम सुंदर त्रिपाठी के रोल में बोलते नजर आ रहे हैं कि शास्त्री जी मरे या मार दिए गए. फिल्म देखने की उत्सुकता को और बढ़ा देता है.

taran adarsh

@taran_adarsh

Trailer of … Directed by Vivek Ranjan Agnihotri… 12 April 2019 release… : https://youtu.be/OgWylHdfIdo 

113 people are talking about this
बता दें कि फिल्म में मिथुन चक्रवर्ती के अलावा नसीरुद्दीन शाह, श्वेता बासु, पंकज त्रिपाठी, विनय पाठक, मंदिरा बेदी, पल्लवी जोशी, अंकुर राठी और प्रकाश बेलावाड़ी नजर आएंगे हैं. फिल्म ‘द ताशकंद फाइल्स’ 12 अप्रैल को रिलीज होगी. फिल्म में पंकज त्रिपाठी साइंटिस्ट गंगाराम झा के किरदार में नजर आएंगे तो एक्ट्रेस पल्लवी जोशी पद्मश्री लेखिका आयशा अली शाह की भूमिका में दिखेंगी. वहीं फिल्म में श्वेता बसु प्रसाद पत्रकार रागिनी फुले की भूमिका निभाती दिखेंगी.

फिल्म का ट्रेलर जितना शानदार है, उससे ये अंदाजा लगाया जा सकता है कि फिल्म देखने की उत्सुकता लोगों में बढ़ जाएगी. बता दें कि लाल बहादुर शास्त्री की मौत आजतक मिस्ट्री बनी हुई है. 11 जनवरी 1966 को खबर आई कि हार्ट अटैक से उनकी मौत हो गई है. हालांकि इस पर अभी भी संदेह बरकरार है. दो साल पहले शास्त्री जी के परिवार ने उनकी मौत से जुड़ी फाइलें सार्वजनिक करने की मांग सरकार से की थी.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch