Wednesday , April 24 2024

अंतरिक्ष में 28 देशों के सैटेलाइट छोड़े जाने से पहले ISRO कैसे कर रहा है तैयारी, तस्‍वीर के जरिये देखें

बेंगलुरू। अंतरिक्ष में लगातार कामयाबी के नए झंडे गाड़ रहा भारत एक अप्रैल को भी एक नया कीर्तिमान अपने नाम स्‍थापित करने जा रहा है. भारतीय अंतरिक्ष एवं अनुसंधान संगठन (इसरो) एमिसैट उपग्रह और अमेरिका तथा स्पेन समेत कई 28 देशों के उपग्रहों को एक अप्रैल को श्रीहरिकोटा के अंतरिक्ष केंद्र से प्रक्षेपित करेगा.

436 किलोग्राम के एमिसैट और अन्य उपग्रहों को चेन्नई से 100 किमी उत्तर में श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के पीएसएलवी सी-45 रॉकेट से प्रक्षेपित किया जाएगा. हालांकि प्रक्षेपण मौसम पर निर्भर करेगा. इसके लिए श्रीहरिकोटा के अंतरिक्ष केंद्र में जोरदार तैयारी चल रही हैं.

 

ISRO

@isro

?? ?? set to launch and 28 foreign satellites from Satish Dhawan Space Centre in Sriharikota on April 1, 2019, subject to weather conditions. Updates will continue.

1,432 people are talking about this

 

इसरो की तरफ से ट्विटर पर दी जा रही जानकारियों में इस प्रक्षेपण की अहम अपडेटस दी गई हैं. इसमें बताया गया है कि किस तरह एमिसैट उपग्रह और अमेरिका तथा स्पेन समेत कई 28 देशों के उपग्रहों के प्रक्षेपण की तैयारियां चल रही हैं.

 

ISRO

@isro

?? ??

An image taken moments before the heat shield getting locked with the payloads intact inside. The launch with and 28 foreign satellites on board is scheduled at 09:30 am (IST) from Sriharikota on April 1.

Updates will continue.

2,301 people are talking about this

 

इस दौरान इसरो की तरफ से PSLVC-45 हीट शील्ड को पेलोड के साथ बंद किए जाने से चंद समय पहले की तस्‍वीर को भी शेयर किया गया. इस तरह इसरो ने तस्‍वीर के जरिये दिखाया कि सैटेलाइटों के अंतरिक्ष में प्रक्षेपण से पहले तैयारियां की जाती हैं.

 

ISRO

@isro

?? ?? has moved to the ‘umbilical tower’ today at the Satish Dhawan Space Centre in Sriharikota. Electrical checks are on now ahead of scheduled launch with & 28 foreign satellites on board, on April 1 at 09:30 am (IST).

Our updates will continue.

1,822 people are talking about this

 

इसरो की तरफ से PSLVC-45 को सतीश धवन स्‍पेश सेंटर में प्रक्षेपण उड़ान से पहले Umbilical Tower पर रखे जाने की तस्‍वीर भी साझा की गई. साथ ही बताया गया कि उपग्रहों के प्रक्षेपण से पहले विद्युत जांच जारी है.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch