Thursday , January 23 2020

विशेष

शाहीनबाग-षड्यंत्र ‘पीपली लाइव’… संविधान को बना रहे ‘नत्था’

प्रभात रंजन दीन शाहीनबाग षड्यंत्र बुनने वाले शातिरों ने इस बार भारत के संविधान को कुर्बानी का बकरा बनाया है। और शातिर कसाइयों ने संविधान के बर्बर-जिबह को ढंकने के लिए राष्ट्र-ध्वज को पर्दा बनाया है। …‘संविधान मुल्ला से कहै, जिबह करत है मोहिं, साहिब लेखा मांगिहैं, संकट परिहैं तोहिं’… ...

Read More »

सूरज ढलते ही गाँव में घुसे 50 आतंकी, लोगों को घरों से निकाला और लगा दी लाशों की ढेर

दिसंबर 2000 में भारत की सुरक्षा एजेंसियों ने दो पाकिस्तानी आतंकवादियों को गिरफ्तार किया। उनमे से एक आतंकी सियालकोट का रहने वाला मोहम्मद सुहैल मलिक था। वह अक्टूबर 1999 में चोरी-छुपे भारत में घुसा था। सेना की एक चौकी और बस पर हुए आतंकी हमलों में शामिल, सुहैल का न्यूयॉर्क ...

Read More »

नहीं पूरा हो पायेगा शाहीन बाग का मकसद

राजेश श्रीवास्तव दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले एक महीने से जो चल रहा है । उसे उचित तो कतई नहीं कहा जा सकता। इस प्रदर्शन को भले ही लोग यह कहें कि लोग अपनी स्वेच्छा से आकर शांति तरीके से अपनी बात रख रहे हैं। लेकिन जिस तरह से ...

Read More »

करीम लाला, दाऊद जैसे माफिया जिस सरकार के मंत्री तय करते थे वो कांग्रेस की ही थी

पद्मपति शर्मा शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि श्रीमती इन्दिरा गांधी माफिया करीम लाला से मिलने मुम्बई जाया करती थीं और उस समय मुम्बई मे माफिया इतने शक्तिशाली थे कि केवल मनपसंद पुलिस कमिश्नर की नियुक्ति ही नहीं महाराष्ट्र सरकार के मंत्रिमंडल गठन तक मे भी उनकी चलती ...

Read More »

पुलिस की एक गलती से कैसे ‘शाहीनबाग’ बन गया राजनीति का अखाड़ा !

प्रमोद शर्मा दिल्ली के साउथ ईस्ट डिस्ट्रिक्ट का एक छोटा सा शाहीनबाग इलाका कैसे पुलिस की एक छोटी सी लापरवाही की वजह से बड़ी परेशानी का सबब बन गया है. CAA और NRC के विरोध में दिल्ली से लेकर देश भर में हो रहे विरोध की चिंगारी शाहीनबाग में कैसे ...

Read More »

Opinion: ‘सिद्धू से भी बुरी गत होने जा रही है दीपिका पादुकोण की’

दयानंद पांडेय छपाक के फ़्लाप होने में सिर्फ़ और सिर्फ़ दीपिका पादुकोण का जे एन यू चले जाना है। जनमत आग की नदी है। बाज़ार और राजनीति जनमत से लड़ कर नहीं चलती। जैसे मुस्लिम वोट बैंक की क़ीमत कांग्रेस निरंतर चुकाती चल रही है। लेकिन कांग्रेस इस अफीम से ...

Read More »

यूपीटेट के अभ्यर्थी इन प्रश्नों पर कर रहे आपत्ति

राहुल कुमार गुप्त यूपीटेट-2019 का पेपर होने के बाद से कई कोचिंग संस्थानों और अभ्यर्थियों ने अपने कयास लगाने शुरू कर दिये थे कि प्रश्नपत्र में आये कुछ विवादित प्रश्न कटआफ के नजदीक रहने वाले अभ्यर्थियों को निराश कर सकते हैं लेकिन इन्हें विभाग के हाक़िम पर विश्वास भी है ...

Read More »

भारत के लिए पाकिस्तान और ईरान में कलेजा पीटो तो जानें..!

प्रभात रंजन दीन सुनने में, कहने में और लिखते हुए बहुत बुरा लग रहा है लेकिन यह हकीकत है कि भारतवर्ष बहुतायत में अत्यंत घृणित किस्म के लोगों का देश बन कर रह गया है। यह लिखने के पहले कई देशों के बारे में पढ़ा। सोचा। अलग-अलग देश के लोगों ...

Read More »

देश किसी दल या गिरोह की बपौती नहीं…

प्रभात रंजन दीन नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) और ईरान में एक सेनाधिकारी की हत्या के खिलाफ भारतवर्ष में हो रहे अवांछित (un-wanted) और असंवैधानिक (un-constitutional) धरना-प्रदर्शनों और हिंसा को लेकर ‘मित्रों के चेहरे वाली किताब’ (Facebook) पर मैंने दो-तीन लेख लिखे। इन लेखों पर सैकड़ों सार्थक-सकारात्मक ...

Read More »

शिकारा: कश्मीरी पंडितों की कहानी के वो हिस्से जो अब तक छुपाए गए हैं!

नेहा चौधरी पहली बार ऐसा है, जब एक महीने का इंतज़ार काफी लंबा लग रहा है। पहली बार लग रहा है कि हर एक दिन गिनना पड़ेगा शायद, या दिन मुश्किल से कटे। वो भी किसलिए? एक मूवी के लिए। मूवी, एक ऐसे सब्जेक्ट पर है जिस पर कभी किसी ...

Read More »

जो अब कर रहे पहले कर लेते तो इतना सब कुछ क्यों होता …

राजेश श्रीवास्तव बीते एक सप्ताह से भारतीय जनता पार्टी के आलाकमान के निर्देश पर सभी राज्यों खासकर उत्तर प्रदेश में संगठन व सरकार के नुमाइंदों, पदाधिकारियों, मंत्रियों, विधायकों, सांसदों व रणनीतिकारों को बाकायदा तैनाती देकर आदेश दिया गया है कि वह जनजागरण कर, लोगों से मिलकर अपने-अपने क्ष्ोत्र या एलॉट ...

Read More »

परत (पुस्तक समीक्षा )

मतलब तो आप समझ कर भी नहीं समझते हैं । अरे वही परत जिसे अंग्रेजी में लेयर कहते हैं। आजकल सबको चढ़ गया है। किसी को विकास का , किसी को अति प्रगतिशीलता का , किसी को विश्व बंधुत्व का , किसी को निरपेक्षता का, अरे वही जिसमें अपना बुरा ...

Read More »

तो कांग्रेस की मति मारी गई है

दयानंद पांडेय तरह-तरह की तमाम बातें जो सामने आ रही हैं , उन से पता चलता है कि सत्ता की आदती रही कांग्रेस सत्ता से विछोह बर्दाश्त नहीं कर पा रही। सो कांग्रेस की मति मार गई है। बुरी तरह। उस के सारे पास उलटे पड़ते जा रहे हैं। नागरिकता ...

Read More »

कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को ऐसी -ऐसी आत्मघाती सलाह कौन देता है ?

सुरेन्द्र किशोर बिहार से राज्य सभा के सदस्य गंगा शरण सिंह ने गांधी, नेहरू, जयप्रकाश सहित अनेक दिग्गज नेताओं को करीब देखा था। गंगा बाबू के पास बड़े- बड़े नेताओं के बारे में तरह -तरह के संस्मरणों का खजाना था। कुछ संस्मरण मैंने भी गंगा बाबू से सुने थे। किसी ...

Read More »

राजनीति तो ठीक पर इतना भी न गिरिए कि…

राजेश श्रीवास्तव राजनीति दो शब्दों का एक समूह है राज+नीति। (राज मतलब शासन और नीति मतलब उचित समय और उचित स्थान पर उचित कार्य करने कि कला) अर्थात नीति विशेष के द्बारा शासन करना या विशेष उद्देश्य को प्राप्त करना राजनीति कहलाती है। दूसरे शब्दों में कहें तो जनता के ...

Read More »