Saturday , June 15 2024

पाकिस्तान में रची जा रही नूपुर शर्मा की हत्या की साजिश, पुलिस ने कहा- तहरीक-ए-लब्बैक ने की प्लानिंग

नई दिल्ली। पाकिस्तानी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक ने भारतीय जनता पार्टी की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा की हत्या की प्लानिंग की है। इस बात की जानकारी राजस्थान पुलिस ने दी है। पुलिस ने बताया कि बॉर्डर पार कर पाकिस्तान से भारत आने वाला पाकिस्तानी नागरिक रिजवान भी इसी संगठन से प्रभावित था। फिलहाल, कई एजेंसियां उससे पूछताछ कर रही हैं।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एडिशनल डीजीपी (इंटेलीजेंस) एस सेंगाथीर ने बताया, ‘पाकिस्तानी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक ने नूपुर शर्मा की हत्या के लिए योजनाएं बनाई हैं। पाकिस्तानी आतंकी रिजवान भी तहरीक-ए-लब्बैक से प्रभावित था। उनके प्लान के अनुसार, वह बॉर्डर पार भारत में प्रवेश करना चाहता था।’

अधिकारी ने कहा, ‘IB, CID, BSF, भारतीय सेना और स्थानीय पुलिस समेत कई एजेंसियां अब रिजवान से पूछताछ कर रही हैं। यह वही संगठन है, जो बीते साल पाकिस्तान में इमरान खान सरकार को घेरने का काम किया था और पाकिस्तान में कई लोगों को मारा था।’ कथित तौर पर नूपुर शर्मा की हत्या की प्लानिंग के साथ भारत आए शख्स को राजस्थान के श्रीगंगानगर में पकड़ा गया था।

BSF के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि शख्स को 16 जुलाई को रात करीब 11 बजे हिंदुमलकोट सीमा चौकी के पास पकड़ा गया था। पैट्रोलिंग टीम की वह संदिग्ध हालत में मिला था, जिसके बाद उसे तत्काल हिरासत में लिया गया। उन्होंने कहा, ‘हमने उसके पास 11 इंच का चाकू, धार्मिक किताबें, कपड़े, भोजन और रेत मिली है। उसकी पहचान पाकिस्तान के उत्तरी पंजाब में मंडी बहउद्दीन शहर में रहने वाले रिजवान अशरफ के तौर पर हुई है।’

उन्होंने जानकारी दी कि शुरुआती जांच में संदिग्ध ने बताया कि वह पैगंबर पर की गई विवादित टिप्पणी के चलते नूपुर शर्मा को मारने आया था। मंसूबे पूरे करने से पहले उसने अजमेर दरगाह जाने की योजना बनाई थी। अधिकारी ने बताया, ‘हमने जांच के लिए उसे स्थानीय पुलिस को सौंप दिया है। उसे मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया, जहां से उसे 8 दिनों की पुलिस हिरासत में भङेज दिया गया। हमने संबंधित इंटेलीजेंस एजेंसियों को उसके बारे में जानकारी दे दी है।’

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch