Wednesday , February 28 2024

पुतिन ने लिख दी यूक्रेन के खात्मे की कहानी, युद्ध क्षेत्र में तैनात कर दी घातक इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल

रूस-यूक्रेन युद्ध के करीब 18 महीने हो चुके हैं। इस बीच यूक्रेन ने रूस पर कई ताबड़तोड़ ड्रोन हमले किए हैं। यूक्रेनी हमलों से अब मास्को और क्रेमलिन भी सुरक्षित नहीं रह गया है। यूक्रेन ने मास्को और क्रेमलिन के कई ठिकानों को निशाना बनाया है। ऐसे में रूसी राष्ट्रपति पुतिन बौखला गए हैं। उन्होंने युद्ध के क्षेत्र में इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल की तैनाती कर दी है। यह यूक्रेन में विनाश का मंजर दिखाने के लिए काफी है। यह न्यूक्लियर मिसाइल इतनी अधिक घातक है कि पलक झपकते किसी भी खूबसूरत शहर को श्मशान बना सकती है। अभी हाल ही में दक्षिण अफ्रीका के ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में पुतिन कहा था कि वह युद्ध का अंत करना चाहते हैं, तो क्या माना जाए कि यूक्रेन युद्ध का अंत बेहद भयानक होने वाला है।

नाटो ने पुतिन की इस मिसाइल को दे चुका है शैतान का नाम

रूस की सरमत मिसाइल विभिन्न उन्नत हथियारों में से आईसीबीएम है, जिसके निर्माण की घोषणा पुतिन ने वर्ष 2018 में की थी। साइलो-आधारित यह मिसाइल कई परमाणु हथियारों को ढोने में सक्षम है और इसके आर-26 आईसीबीएम की जगह लेने की संभावना है, जिसे उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) ने ‘शैतान’ का नाम दिया था। सरमत का शुरुआती प्रक्षेपण चरण कथित तौर पर कम अवधि का है, जिससे निगरानी प्रणालियों को इसका पता लगाने के लिए बहुत कम समय मिलता है। रूस के वर्ष 2022 में यूक्रेन में सेना भेजने के लगभग दो महीने बाद पुतिन ने कहा था, ”सरमत बाहरी खतरों से रूस की विश्वसनीय रूप से सुरक्षा सुनिश्चित करेगी। यह उन लोगों को दो बार सोचने पर मजबूर करेगी, जो आक्रामक बयानबाजी के जरिये हमारे देश को धमकी देने की कोशिश करते हैं।”

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch