Wednesday , February 28 2024

कॉन्ग्रेस ने माँगा चंदा, समर्थकों ने गालियों से भर दी तिजोरी: ‘डोनेट फॉर देश’ वालों को अपने ही बता रहे मूर्ख-आलसी-अकर्मण्य

मल्लिकार्जुन खड़गे, कॉन्ग्रेस, डोनेशनकॉन्ग्रेस पार्टी ने समर्थकों से चंदा इकट्ठा करने के लिए ‘डोनेट फॉर देश’ नाम का अभियान शुरू किया। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने खुद 1.38 लाख रुपए देकर इस अभियान की शुरुआत की। लेकिन, पार्टी के साथ ‘खेला’ हो गया। खेला इसीलिए, क्योंकि कॉन्ग्रेस ने जिस नाम का अभियान शुरू किया उस नाम का डोमेन नेम किसी और ने रजिस्टर कर लिया। न सिर्फ रजिस्टर कर लिया, बल्कि वहाँ भाजपा को डोनेट करने का लिंक भी डाल दिया।

इसके बाद कॉन्ग्रेस जिन समर्थकों से डोनेशन की अपेक्षा कर रही थी, वही अब उसे गाली दे रहे हैं। उदाहरण के लिए खुद को ‘सेक्युलर-लिबरल’ बताने वाले संदीप मनुधाने का ट्वीट ही देख लीजिए। उन्होंने कॉन्ग्रेस के इस अभियान के शुरू होते ही इसकी 3 खामियाँ गिना दीं – पार्टी की खोखली प्लानिंग, आलाकमान द्वारा कोई निगरानी नहीं और व्यावहारिक ज्ञान की कमी। उन्होंने इसे अशुभ संकेत बताते हुए कहा कि अगर ‘धूर्त विरोधियों’ द्वारा आपका सबसे बड़ा क्राउडफंडिंग प्रोग्राम हाईजैक कर लिया जाता है, ये आपकी नाकामी को दिखाता है, विरोधियों की नहीं।

उन्होंने आगे लिखा कि आज की Realpolitik (नैतिकता की जगह परिस्थिति और व्यवहार के हिसाब से चलने वाली राजनीति) में स्वागत है। सुप्रिया श्रीनेत ने भाजपा के डरे होने का दावा करते हुए फर्जी डोनेशन लिंक बना कर कॉन्ग्रेस समर्थकों को भ्रमित करने का आरोप लगाया। इस पर भी संदीप ने रिप्लाई दी कि उन्होंने वही किया जो कॉन्ग्रेस में नीतियाँ बनाने वालों ने नज़रअंदाज़ किया। उन्होंने कहा कि पार्टी के लिए ज़रूरी डोमेन्स को सुरक्षित रखा जाना चाहिए।

वहीं एक अन्य यूजर ने तो ये तक सलाह दे डाली कि चूँकि ‘डोनेट फॉर देश’ अभियान को हाईजैक कर लिया गया है, इसीलिए कॉन्ग्रेस पार्टी अपने डोनेशन कैम्पेन का नाम बदल कर कुछ और रख दे। साथ ही अख़बारों से लेकर मीडिया तक में इसका प्रचार करने की सलाह दे डाली।

बता दें कि यदि कोई भी व्यक्ति Donatefordesh.Org वेबसाइट को खोलता है तो इस पर भाजपा को चंदा देने का पेज खुलता है। यहाँ नाम, मोबाइल नम्बर और ईमेल आईडी देकर भाजपा को चंदा देने का फॉर्म खुलता है। वहीं Donatefordesh.Com और Donatefordesh.in भी कॉन्ग्रेस नहीं ले पाई

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch