Saturday , February 24 2024

आस्ट्रिया बेस्ड ट्रो ग्रुप जीएमबीएच के सीईओ बर्नड बडुरेक ने पीएम मोदी के ‘मेक इन इंडिया’ को सराहा

भारत स्थित कंपनी टीआरआईएन ने ग्रीन अर्थ थीम के साथ पौधरोपण कर 15 वर्ष पूरे होने का जश्न मनाया

गुरुग्राम। ग्रीन अर्थ-एनवायरमेंट फ्रेंडली थीम के साथ गुरुग्राम में टीआरआईएन ने आज भारत में अपने 15 साल पूरे होने का जश्न मनाया। गुरुग्राम में आयोजित कार्यक्रम में कंपनी के देश-विदेश में कार्यरत अधिकारियों ने हिस्सा लिया। खासकर सीईओ बर्नड बडुरेक- ट्रो ग्रुप जीएमबीएच और सीईओ ट्रोडैट जीएमबीएच रोलैंड रीयर की उपस्थिति उल्लेखनीय थी। इस मौके पर कंपनी के सीईओ बर्नड बडुरेक ने एक पौधा लगाया और हरित पृथ्वी पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि उनकी कंपनी पर्यावरण की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और उन्होंने सभी कर्मचारियों से इस खास मौके पर कम से कम एक पेड़ लगाने का आग्रह किया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘मेक इन इंडिया’ नीति की भी सराहना की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के सपने को पूरा करने के लिए उनका ग्रुप ऑस्ट्रिया, रोमानिया और चीन के अलावा भारत में और अधिक विस्तार करेगा। रोलैंड रीयर ने कहा कि वे इस अवसर से बहुत उत्साहित हैं।

उन्होंने भारतीय बाजार के लिए ग्रुप की विकास योजनाओं को प्रस्तुत किया और यह भी उल्लेख किया कि भारत उनके प्रमुख ग्लोबल मैन्युफैक्चरिंग सेंटर्स में से एक है। टीआरआईएन के एमडी ऋषि राज भास्कर ने बताया कि कैसे ग्रुप की “मेक इन इंडिया” नीति भारत में 15 वर्षों की अवधि में उनकी मैन्यूफेक्चरिंग क्षमता का विस्तार करने में सहायक रही है। गुड़गांव में एक छोटे सेटअप से शुरू होकर मानेसर में अपनी विस्तारित अत्याधुनिक मैन्यूफेक्चरिंग सुविधा तक पहुंचने तक, वे भारत को उच्च गुणवत्ता वाले उत्पाद प्रदान करने के साथ-साथ भारतीयों के लिए नौकरी के अवसर भी पैदा करने के लिए भी प्रतिबद्ध हैं। ट्रोडैट मार्किंग इंडिया प्रा. लिमिटेड प्री-इंकिंग और सेल्फ-इंकिंग स्टाम्पों की एक अग्रणी और प्रसिद्ध कंपनी है। आस्ट्रिया बेस्ड मूल कंपनी एमएनसीट्रोडैट जीएमबीएच ने 2009 में भारत में अपना ऑपरेशन शुरू किया था। यह 150 से अधिक देशों में 15 से अधिक अंतर्राष्ट्रीय सहायक कंपनियों और वितरण के साथ टिकटों के लिए वैश्विक बाजार में अग्रणी है।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch