Tuesday , April 16 2024

तो इसलिए सर्दियों में वजाइना का हो जाता है ऐसा बुरा हाल, लडकियों को सेक्‍स करने में होती है बड़ी तकलीफ

ठंड का मौसम आ चुका है और हर जगह कड़ाके की ठंड पड़ना शुरु हो चुकी है। ठंड का असर शरीर के बाकी हिस्‍सों की तरह प्राइवेट पार्ट पर भी पड़ता है। अक्‍सर ठंड आपने देखा होगा कि ठंड में होंठ फटने लग जाते है और स्किन ड्राय होने लगती है। इसी तरह ठंड में ड्राय वजाइना की समस्‍याएं महिलाओं में ज्‍यादा देखने को मिलती है, इसे विंटर वजाइना भी कहा जाता है।

इस वजह से महिलाओं को काफी समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है, जैसे वजाइना में इचिंग और सेक्‍स के दौरान महिलाओं को कई समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है, आइए जानते है इस विंटर वजाइना के बारे में।

नमी खो जाने के वजह से
“शुष्क शरद ऋतु और सर्दियों की सर्द हवा हमारे शरीर की नमी को कम कर देती है, जिससे हमारी त्वचा डिहाइड्रेड हो जाती है और त्वचा फट जाती है, और त्‍वचा खुदरी हो जाती है। इसी तरह ज्‍यादा देर तक ठंड में रहने प्राइवेट पार्ट से भी नमी खोने लगती है, जिसे वजह से सूखेपन की समस्‍या होने लगती है। सेक्‍स लाइफ पर पड़ता है असर

सर्दियों में वजाइना ड्रायनेस की वजह से वजाइना में लुबिक्रेशन में कमी आ जाती है। जिस वजह से सेक्‍स के दौरान पर्याप्‍त मात्रा में लुब्रिकेंट नहीं होने से पेन‍िट्रेशन के दौरान दिक्‍कत होती है। और इस वजह से सेक्‍स लाइफ पर असर पड़ता है। 
साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch