Tuesday , August 16 2022

तिब्बत का स्वरूप बदल उसे समाजवादी बनाना चाहता है चीन, राष्ट्रपति चिनफिंग ने जताया इरादा

बीजिंग। चीन में राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने आधुनिक समाजवादी तिब्बत की स्थापना का आह्वान किया है। कहा है कि अलगाववादियों और प्रगतिवादियों के बीच अभेद्य दीवार खड़ी कर दी जाएगी जिससे अलगाववाद का दुष्प्रभाव तिब्बत पर न पड़े। साथ ही तिब्बत की बौद्ध विचारधारा को चीन की मान्यता के अनुरूप बनाया जाएगा। चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव के तौर पर चिनफिंग ने यह बात पार्टी की केंद्रीय कार्यसमिति की तिब्बत पर आयोजित कार्यशाला में कही।

चिनफिंग ने कहा कि हमारा प्रयास है कि एकजुट, संपन्न, सांस्कृतिक रूप से उन्नत, भाईचारे वाले खूबसूरत तिब्बत का निर्माण हो। कम्युनिस्ट पार्टी की नीतियों के अनुसार तिब्बत का शासन चलाए जाने की आवश्यकता पर बल देते हुए चिनफिंग ने कहा, हम उसी के जरिये आधुनिक समाजवादी तिब्बत का निर्माण कर सकते हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा, शांति और स्थिरता बनाए रखने पर जोर देते हुए चिनफिंग ने कहा, हम अच्छा पर्यावरण, सीमाओं की सुरक्षा और सीमावर्ती इलाकों को सुविधापूर्ण बनाने का प्रयास जारी रखेंगे।

उल्लेखनीय है कि तिब्बत का शासन तिब्बत स्वायत्तशासी प्राधिकार (टीएआर) चलाता है जिसमें अधिकारियों की नियुक्ति चीन की सहमति से होती है। तिब्बत में आध्यात्मिक गुरु के रूप में पूजा जाता है जबकि वह 1959 में भारत चले गए थे। भारत और चीन के बीच तिब्बत स्वतंत्र राष्ट्र था लेकिन 1950 में चीन ने उस पर कब्जा कर लिया था। तिब्बत की सीमा भारत, भूटान और नेपाल से लगती है।

उधर अमेरिका के रक्षा विभाग पेंटागन ने कहा है कि चीन ने मध्यम दूरी तक मार करने वाली मिसाइलें दाग कर दक्षिण चीन सागर में अपनी गतिविधियां बढ़ा दी हैं। बता दें कि चीन ने बुधवार को दक्षिणी हैनान प्रांत और पार्सल द्वीप समूह के बीच वाले इलाके में मिसाइलें दागी थीं। इनमें एक ‘कैरियर किलर’ मिसाइल थी जो विमानवाहक पोत को नष्ट करने में सक्षम है। इसको अमेरिकी विमानवाहक पोतों पर हमले के इरादे से विकसित किया गया है।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published.