165 लोगों की हत्‍या करने वाला इंडियन मुजाहिद्दीन का आतंकी गिरफ्तार

नई दिल्ली। पिछले करीब दस सालों से फरार चल रहा इंडियन मुजाहिद्दीन का सबसे खूंखार और मोस्‍ट वांटेड आतंकी आखिरकार पुलिस के हत्‍थे चढ़ ही गया। दिल्‍ली पुलिस की स्‍पेशल सेल ने इंडियन मुजाहिद्दीन के भगोड़े आतंकी आरिज खान उर्फ जुनैद को धरदबोचा है। जुनैद 2008 के बाटला हाउस एनकाउंटर के बाद से ही फरार था। दिल्‍ली सीरियल ब्‍लास्‍ट के बाद जामिया नगर के बाटला हाउस में पुलिस और आतंकियों की मुठभेड़ हुई थी। इस एनकाउंटर में दिल्‍ली पुलिस की स्‍पेशल सेल के इंस्‍पेक्‍टर मोहन लाल शर्मा शहीद हो गए थे। जबकि स्‍पेशल सेल के जवानों ने दो आतंकियों को मार गिराया था। लेकिन, आरिज खान उर्फ जुनैद एनकाउंटर के दौरान ही बाटला हाउस से भाग निकलने में कामयाब हो गया था। उसी वक्‍त से स्‍पेशल को इंडियन मुजाहिद्दीन के इस आतंकी की तलाश थी। जुनैद पर दिल्‍ली सीरियल ब्‍लास्‍ट के अलावा कई और धमाकों का भी आरोप है।

बुधवार को दिल्‍ली पुलिस की स्‍पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद सिंह कुशवाहा ने इंडियन मुजाहिद्दीन के इस आतंकी का पूरा का पूरा काला चिट्ठा मीडिया के सामने पेश किया। स्‍पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद सिंह कुशवाहा ने बताया कि जुनैद जिन धमाकों में शामिल था उनमें कुल मिलाकर 165 लोग मारे गए थे। इसमें 13 सितंबर 2008 को दिल्‍ली में हुआ सीरियल ब्‍लास्‍ट भी शामिल है। कुशवाहा ने बताया कि इंडियन मुजाहिद्दीन का आतंकी जुनैद बम बनाने में काफी एक्‍सपर्ट है। डीसीपी ने बताया कि वो अपनी साजिश को अंजाम तक पहुंचाने में काफी माहिर है। जुनैद आरिफ अमीन का साथी है। आरिफ अमीन वही आतंकी है जिसे बाटला हाउस एनकाउंटर में स्‍पेशल सेल ने मार गिराया था। स्‍पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद सिंह कुशवाहा ने बताया कि जुनैद देश में हुए कई सीरियल ब्‍लास्‍ट का आरोप है। जिसमें 2007 में उत्‍तर प्रदेश और 2008 में जयपुर का सीरियल ब्‍लास्‍ट भी शामिल है।

इसके अलावा इंडियन मुजाहिद्दीन का ये आतंकी अहमदाबाद ब्‍लास्‍ट में भी शामिल था। स्‍पेशल सेल को जुनैद की लंबे समय से तलाश थी। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अभी हाल ही में स्‍पेशल सेल को जुनैद को लेकर कुछ महत्‍वपूर्ण सुराग हाथ लगे थे। जिसके बाद ही उसकी गिरफ्तारी मुमकिन हो पाई। बताया जा रहा है कि इन दस सालों में वो लगातार वो लगातार अपनी लोकेशन बदलता रहा। जुनैद ज्‍यादा दिन तक किसी भी शहर में नहीं रहा। वो अपनी पहचान बदल-बदलकर पुलिस से छिपता घूम रहा था। जुनैद की गिरफ्तारी दिल्‍ली पुलिस की स्‍पेशल सेल के लिए बहुत बड़ी कामयाबी है। दरसअल, 13 सितंबर 2008 को दिल्‍ली में सीरियल ब्‍लास्‍ट हुए थे। इसमें इंडियन मुजाहिद्दीन के आतंकियों ने कनॉट प्‍लेस, चिड्रेन पार्क, गफ्फूर मार्केट और जीके में बम प्‍लांट किए थे। इस सीरियल ब्‍लास्‍ट में 26 लोगों की मौत हुई थी। जबकि 80 लोग जख्‍मी हो गए थे।

Loading...

इस ब्‍लास्‍ट की जांच जब दिल्‍ली पुलिस की स्‍पेशल सेल ने शुरु की तो उन्‍हें पता चला कि इस हमले के पीछे इंडियन मुजाहिद्दीन के आतंकियों का हाथ। जांच में स्‍पेशल सेल को पता चला कि हमले के आरोपी जामिया नगर की बाटला हाउस में मौजूद हैं। उस वक्‍त ये आतंकी बाटला हाउस के एल 18 मकान नंबर में छिपे हुए थे। स्‍पेशल सेल के जवानों ने पहले सेल्‍स ब्‍यॉय बनकर आतंकियों के मकान में छिपे होने की तस्‍दीक की। इसके बाद इन्‍हें पकड़ने के लिए ऑपरेशन शुरु किया। लेकिन, एनकाउंटर के दौरान ही आरिज खान उर्फ जुनैद वहां से भाग निकला था। उसके साथ कुछ और आतंकी भी बाटला हाउस से भागने में कामयाब हुए थे। इस एनकाउंटर में दो आतंकी मारे गए थे। जबकि स्‍पेशल सेल के इंस्‍पेक्‍टर मोहन लाल शर्मा इस एनकाउंटर में शहीद हो गए थे। हालांकि बाद में बाटला हाउस एनकाउंटर पर काफी राजनीति भी हुई थी।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

इमरान खान के पहले भाषण पर उठे सवाल, पाकिस्तान में ऐसी रही प्रतिक्रिया

नई दिल्ली। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के प्रमुख इमरान खान ने शनिवार