Wednesday , January 16 2019

‘जनसंख्या वृद्धि के कारण राम मंदिर तो छोड़िए, राम का नाम लेना भी मुश्किल हो जाएगा’

पटना/नवादा। आज सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर के मामले पर सुनवाई होनी है वहीं, अपने बयानों को लेकर सदैव सुर्खियों में रहने वाले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के फायरब्रांड नेता गिरिराज सिंह ने एकबार फिर एक विवादित ट्वीट किया है. उन्होंने कहा कि राम मंदिरतो छोड़िए, राम का नाम भी भारत में लेना मुश्किल हो जाएगा. उन्होंने लोगों से खुद को और देश को संभालने की सलाह दी है.

मोदी सरकार में मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा, ‘एक बाबर के आने से 100 करोड़ हिन्दुओं को हिंदुस्तान में राम मंदिर के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है. कल जनसंख्या वृद्धि होने के कारण राम मंदिर को तो छोड़िए, राम का नाम लेना भी मुश्किल हो जाएगा. संभलिए और खुद को संभालिए.’

चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है वैसे-वैसे अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मुद्दा गरमाता जा रहा है. गिरिराज सिंह इससे पहले भी कई मौकों पर राम मंदिर को लेकर बयान दे चुके हैं. इससे पहले उन्होंने कहा था कि अब हिंदुओं का सब्र टूट रहा है, मुझे भय है कि इसका परिणाम क्या होगा.

गिरिराज सिंह ने कहा था कि देश का दुर्भाग्य है कि हिन्दुओं को प्रताड़ित होना पड़ा. आजादी के तुरंत बाद हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर देश का बंटवारा हुआ. उस समय अगर कांग्रेस हिन्दुओं के आस्था का केंद्र प्रभु श्री राम का मंदिर बनवा दी होती तो आज यह दुर्दशा नहीं होती. जवाहर लाल नेहरू ने वोट की खातिर इसे विवादित बनाकर रखा. अब भी कांग्रेस इसे विवादित बनाए रखना चाहती है.

गिरिराज सिंह ने सीनियर कांग्रेस लीडर कपिल सिब्बल पर भी निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि कांग्रेस नेता नहीं चाहते हैं कि अभी फैसला आए, चुनाव है. यानी कांग्रेस चाहती है मंदिर नहीं बने, विवादित बना रहे. हम वोट लेते रहे, लेकिन 125 करोड़ हिन्दू अब इंतजार करने के लिए तैयार नहीं. अब सब्र की सीमा टूट रही है. अगर सीमा टूट गई, तो कुछ भी हो सकता है. उन्होंने कहा था कि अयोध्या में राम मंदिर बनना चाहिए. अब इंतजार नहीं.

Loading...

About I watch

Check Also

पेंशन आवेदकों को अब नहीं खाने होंगे धक्के, सरकार शुरू करेगी यह सुविधा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव ने राज्य में पात्र लोगों तक जल्द से जल्द पेंशन पहुंचाने के लिए ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *